Begin typing your search...

चुनाव हारने के बाद स्वामी ने तोड़ी चुप्पी, फिर सांप और नेवले का सुनाया किस्सा, जानें इस बार क्या है मायने

चुनाव हारने के बाद स्वामी ने तोड़ी चुप्पी, फिर सांप और नेवले का सुनाया किस्सा, जानें इस बार क्या है मायने
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

भाजपा को छोड़कर बड़े बड़े दावों के साथ समाजवादी पार्टी में गए स्वामी प्रसाद मौर्य ना तो सपा को सत्ता में ला पाए और ना ही अपनी सीट जीत सके। स्वामी प्रसाद मौर्य फाजिलनगर से सपा की टिकट पर दांव आजमा रहे थे। यहां वह अपने प्रतिद्वंदी भाजपा प्रत्याशी से चुनाव हार गए हैं। चुनाव हारने के बाद स्वामी ने चुप्पी तोड़ी है, स्वामी प्रसाद मौर्य ने चुनाव हारने के बाद ट्वीट कर जीतने वाले विधायकों को बधाई दी। यूपी में भाजपा को मिले बहुमत को लेकर स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा मैं लोगों के जनादेश का सम्मान करता हूं। हार और जीत लोकतंत्र का हिस्सा हैं। मैं चुनाव में अपनी हार स्वीकार करता हूं।

मैं अपनी हिम्मत नहीं चुनाव हार गया हूं। जिन मुद्दों के लिए मैंने बीजेपी छोड़ी, वे अब भी हैं और उन मुद्दों को जनता के सामने रखेंगे। उन्होंने सांप और नेवले का किस्सा सुनाते हुए कहा, हमेशा बड़ा तो नेवला ही होता है। यह बात अलग है कि नाग और सांप दोनों ने मिलकर नेवले को जीतने नहीं दिया। उन्होंने आगे कहा, जहां लोगों ने समझा वहां पर परिणाम सकारात्मक भी आए हैं। हमें खुशी है कि समाजवादी पार्टी का जन आधार तेजी से आगे बढ़ा और विधायकों की संख्या भी 2.5 गुना बढ़ी और सपा एक बड़ी ताकत बन कर उत्तर प्रदेश में उभरी है। उसे और बड़ा बनाने के लिए ये अभियान जारी रहेगा।

बड़े बड़े दावों के साथ समाजवादी पार्टी में गए स्वामी प्रसाद मौर्य ना तो सपा को सत्ता में ला पाए और ना ही अपनी सीट जीत के। चुनाव परिणाम में एक ओर जहां पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन का प्रभाव दिखा, वहीं दूसरी ओर स्वामी प्रसाद इस चुनाव में बड़बोले भर साबित हो कर रह गए हैं। आरपीएन ने जिले के सभी सात सीटों में चुनाव प्रचार की कमान संभाली थी और परिणाम शत प्रतिशत भाजपा के पक्ष में आया।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it