Begin typing your search...

निश्चिन्त रहे प्रयागवासी नगर का नाम प्रयागराज होने के बाद भी पुराने नाम से बने समस्त प्रपत्र वैध बने रहेंगे

निश्चिन्त रहे प्रयागवासी नगर का नाम प्रयागराज होने के बाद भी पुराने नाम से बने समस्त प्रपत्र वैध बने रहेंगे
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

शशांक मिश्रा

नगर का नाम प्रयागराज कर दिए जाने के मंत्रिपरिषद के निर्णय पर चारों तरफ से सरहाना की प्रतिक्रियाएं प्राप्त हो रही है। इस नगर को इसकी शताब्दियों पुरानी अपनी आध्यात्मिक और पौराणिक पहचान के साथ उसका वास्तविक नाम पुनः प्राप्त होने का मार्ग सुगम हुआ है।

नगर का नाम प्रयागराज कर दिए जाने के गौरव पर प्रयागराज निवासियों में हर्ष के साथ एक उत्कंठा यह भी बनी हुई है कि सरकारी अभिलेखों एवं पहचान पत्र आदि प्रपत्रों में पूर्व से चले आ रहे नाम की वैधता क्या होगी? इसके संबंध में मंडलायुक्त, डॉ आशीष कुमार गोयल ने समस्त प्रयागराज वासियों को यह आश्वस्त किया है कि पूर्व से चले आ रहे समस्त प्रकार के अभिलेखों में नगर के पूर्व नाम के उल्लेख से उसकी वैधता बाधित नहीं होगी तथा पुराने नाम के साथ बने हुए समस्त शासकीय अभिलेख एवं प्रपत्र अपनी निर्धारित अवधि तक यथावत वैध रहेंगे।

नगर का नाम औपचारिक रूप से अधिसूचित होने के उपरांत नए बनने वाले समस्त अभिलेखों में नाम प्रयागराज दर्ज होगा । किंतु पूर्व से चले आ रहे समस्त प्रपत्र यथा पहचान पत्र, पासपोर्ट, भवन/भूमि सम्बन्धित अभिलेख, राशन कार्ड, लाइसेंस, आधार, वोटर आई डी इत्यादि अपनी निर्धारित वैधता अवधि तक पुराने नाम के साथ भी यथावत वैध रहेंगे।

Special Coverage News
Next Story
Share it