Top
Begin typing your search...

बहराइच : टीचर के मार से बच्चे का टूटा हाथ,शरीर पर चोट के निशान, अवैध छात्रावास में हो रहा बच्चों का उत्पीड़न,एक ही घर के थे दो बच्चे

बहराइच : टीचर के मार से बच्चे का टूटा हाथ,शरीर पर चोट के निशान, अवैध छात्रावास में हो रहा बच्चों का उत्पीड़न,एक ही घर के थे दो बच्चे
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

स्वप्निल द्विवेदी

बहराइच । जहाँ प्रदेश में एक तरफ योगी सरकार ने स्कूलों में बच्चों के मानसिक व शारीरिक उत्पीड़न पर पूर्णरूप से प्रतिबंध लगाया है,पर अभी भी कुछ मानसिक बीमार टीचर है जो बच्चों को शारीरिक दण्ड देने में पुलिस को भी पीछे छोड़ देते है।कहने का आशय यह कि जिस तरह पुलिस अपराधियो पर थर्ड डिग्री का इस्तेमाल करती है। उसी प्रकार एक निर्दयी अध्यापक ने गुरु शिष्य के रिश्ते को अपमानित करते हुए छात्र की निर्ममता से इस तरह पिटाई की कि शरीर पर बने चोट के वह निशान चीख चीख कर टीचर की निर्दयता को बयां कर रहे है। जनपद बहराइच के थाना पयागपुर क्षेत्र अन्तर्गत ग्राम जमुनही मजरा चरनिया कोट के एक ब्यक्ति ने बताया कि उसका लड़का व भतीजा गंगवल बाजार के निकट एक निजी स्कूल में प्रथम व द्वितीय का छात्र है। बताया कि स्कूल जाते समय बच्चे को भूख लगने के कारण दुकान पर जाकर समोसा खा लिया।

जिससे क्रोधित होकर मेरे बच्चे को टीचर ने मारापीटा व जमीन पर उठाकर पटक दिया जिससे बच्चे के हाथ व शरीर के अन्य हिस्से में भी चोटे आयी है वहीं भतीजे को भी बहुत मारा पीटा।प्राप्त जानकारी के अनुसार चरनिया कोट निवासी सूर्यभान मिश्रा पुत्र बछराज मिश्रा मजरा चरनिया कोट ने थाना बिशेश्वरगंज में प्रार्थना पत्र देकर कहा है कि मेरा लड़का करण मिश्रा उम्र 9 वर्ष जो गंगवल बाजार स्कूल रघुकुल सरस्वती शिशु मंदिर में हॉस्टल में रहकर पढ़ता था,को मास्टर राज सिंह पुत्र अज्ञात द्वारा नाजायज तरीके से गाली गुप्ता दिया और मूँका थप्पड़ लात घुसा व डंडा से मारा-पीटा और उठाकर जमीन पर पटक दिया,इससे मेरे लड़के को काफी चोटें आई।

वही घर आने पर जब उसी स्कूल में पढ़ने वाले मेरे भतीजे श्रीकांत मिश्रा पुत्र विजय भान मिश्रा उम्र करीब बारह वर्ष के घर पहुंचने पर उसके कपड़े को उसकी माँ ने बदलवाने के लिए निकालना शुरू किया तो देखा कि उसके शरीर पर भी चोट के निशान है। घटना दिनांक 5 मार्च 2020 को दिन में 2:00 बजे की है।प्रार्थना पत्र पाकर थाना पयागपुर की पुलिस ने उपरोक्त संबंध में स्थानीय थाने पर एनसीआर दर्ज कर पीड़ित को मेडिकल के लिए भेज दिया था।वही परिवार द्वारा मीडिया को बच्चे के हाथ के एक्सरे की फ़िल्म देते हुए कहा कि टीचर के पटकने से बच्चे का हाथ टूट गया है।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it