Begin typing your search...

किसान ने फांसी के फंदे पर झूलकर की आत्महत्या

किसान ने फांसी के फंदे पर झूलकर की आत्महत्या
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

फैसल खान

बिजनोर नहटौर बैंक के कर्ज में डूबे किसान ने बैंक के तकाजे से आजिज आकर बहन के गांव में फांसी के फंदे पर झूलकर आत्महत्या कर ली। प्रातः जंगल गए ग्रामीणों ने पेड़ पर शव लटका देखा तो सूचना ग्राम प्रधानपति को दी। ग्राम प्रधानपति की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया। कर्ज के चलते किसान द्वारा की गई आत्महत्या ने सरकार के किसानों को खुशहाल बनाने के दावों की पोल खोल दी है।

ग्राम अकबरपुर शीमली थाना चांदपुर निवासी शौवीर सिंह पुत्र भारत सिंह (40वर्ष) ने आर्थिक स्थिति ठीक न होने के चलते चांदपुर के भूमि विकास बैंक तथा विदुर ग्रामीण बैंक से करीब तीन लाख का कर्ज ले रखा था। जिसे वह चुका नहीं पा रहा था। बैंक वाले उस पर लगातार कर्ज चुकाने के दबाव बना रहे थे। उनके तकाजे से बचने के लिए वह रिश्तेदारियों में छुपता फिर रहा था। बताया जाता है कि शौवीर रविवार को अपनी नहटौर थानाक्षेत्र के गांव जोगीपुरा निवासी अपनी बहन सुनीता पत्नी पीताम्बर सिंह के घर आया हुआ था। बीती रात वह बहन के घर खाना खाने के बाद दुकान से बीड़ी लाने को कहकर घर से निकला था। देर रात तक घर न लौटने पर परिजनों ने उसकी तलाश की लेकिन उसका कहीं पता नहीं चल सका। आज प्रातः जब ग्रामीण जंगल जा रहे थे तो उन्हें पड़ोसी गांव खजूरा जट निवासी राशन डीलर सतीश कुमार के खेत मे खड़े आम के पेड़ पर शौवीर का शव लटका देखा। पेड़ पर शव लटका होने की खबर जंगल की आग की तरह फैल गई। ग्राम प्रधानपति धर्मवीर सिंह ने मामले की सूचना पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए बिजनौर भेज दिया। उसकी मौत से परिजनों में कोहराम मचा हुआ है।

मृतक के भाई सुखवीर सिंह ने बताया कि शौवीर की पत्नी की चौदह वर्ष पूर्व मृत्यु हो गई थी। जिससे एक पुत्र है। आर्थिक स्थिति कमजोर होने के चलते सौवीर ने भूमि विकास बैंक व विदुर ग्रामीण बैंक से करीब तीन लाख रुपए का ऋण लिया था। जिसे वह चुका नहीं पा रहा था। बताया जाता है कि वर्तमान में बैंक शाखाओं ने उस पर कर्ज चुकता करने का पूरा दबाव बना रखा था।

कर्ज के नीचे दबे किसान द्वारा आत्महत्या करने से उसका चौदह वर्षीय इक्लौता पुत्र अनाथ हो गया। जन्म के बाद ही माँ की मौत होने पर सौवीर ने ही उसे माँ की ममता व पिता का दुलार दिया था। परन्तु अब पिता की मौत से उसका एक मात्र सहारा भी छिन गया। किशोर का बिलाप देख प्रत्यक्षदर्शी भी अपने आंसू नहीं रोक पाये।

Special Coverage News
Next Story
Share it