Begin typing your search...

8 दिन से महिला अस्पताल में ऑपरेशन बन्द

8 दिन से महिला अस्पताल में ऑपरेशन बन्द
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

फैसल खान बिजनौर

बिजनौर महिला ज़िला अस्पताल मे करीब 8 दिन से ऑपरेशन नही हो रहे है जिसके चलते गरीब मरीज़ों को बहुत दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। जनपद के अलग अलग गांव व तहसीलो से मरीज़ प्रसव पीढ़ा के दौरान किराया भाड़ा लगाकर बिजनौर महिला ज़िला अस्पताल पहुंचते है। लेकिन वहाँ आकर जब उन्हें ऑपरेशन नही होने का पता चलता है तो मायूस हो जाते है और निजी अस्पतालों की तरफ जाना पड़ता है जिसका खर्च वहन करना उनके लिए एक बड़ी मुश्किल का सबब है।

जब हमारे सवांददाता ने वहाँ मौजूद दूर दराज़ से प्रसव पीढा के चलते ऑपरेशन कराने आये मरीज़ों से बात की तो कैमरे के सामने मरीज़ों के दर्द छलक आये और मायूस चेहरा लिए बोले कि हम बहुत दूर से 5 -6 दिन से लगातार ज़िला महिला अस्पताल के चक्कर काट रहे है लेकिन यहाँ कोविड -19 की किट खत्म बताकर ऑप्रेशन बन्द कर दिए गए है और कोई संतोष जनक जवाब डॉक्टर्स या स्टाफ देने को तैयार नही है। वही एक महिला मरीज़ ने अपनी परेशानी बताई कि वह बिजनौर ज़िला महिला अस्पताल मे 6-7 दिन से ऑपरेशन कराने के बहुत दूर से आ रही है । उसके पास जो थोड़ा बहुत पैसा था वो आने जाने में खत्म हो गया और उसकी डिलीवरी का समय भी हुए भी कई दी। हो गए है। लेकिन उसका कुछ नही हो पा रहा और उसके पास प्राइवेट अस्पतालों में ऑपरेशन कराने के लिए पैसा भी नही है।

दरअसल महिला ज़िला अस्पताल मे प्रसव के दौरान किए जाने वाले ऑपरेशन से पहले डॉक्टर्स द्वारा मरीज़ों के कोविड-19 ( TRUE NOT ) श्रेणी की जाँच कराई जाती है जिसका सामान खत्म हो गया और डॉक्टर्स को ऑपरेशन बन्द करने पड़े। लेकिन इसका गरीब मरीज़ों पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है।

महिला अस्पताल के डॉक्टर्स से इस मामले में पूछे जाने पर कहा कि हमारे यहाँ ऑपरेशन के मरीज़ को लगभग 7-8 एडमिट रखा जाता है । जिसके कारण मरीज़ की कोविड-19 की उचित श्रेणी की जाँच करना जरूरी है । और जब जाँच शुरू हो जाएगी तो ऑपरेशन भी पहले की तरह शुरू हो जाएंगे।

आपको बताते चले कि बिजनौर ज़िला अस्पताल में कोविड -19 का एन्टीजेन टेस्ट हो रहा है लेकिन ये जाँच कराये जाने पर भी महिला अस्पताल में सिर्फ नार्मल डिलीवरी ही हो पाती है। यदि मरीज़ को ऑपरेशन की आवश्यकता पड़ जाए तो उसे मेरठ या बिजनौर के किसी निजी अस्पताल में ही जाना पड़ता है जो कि मरीज़ों के लिए परेशानी का सबब बन रहा है।इस मामले जब सी एम एस डॉक्टर ज्ञानचन्द का कहना है कि हमारे पास ट्र्रु नॉट के किट खत्म है लेकिन अन्य कोविद-19 के टेस्ट हो रहे है ।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it