Begin typing your search...

प्रयागराज और कानपुर में पत्थर चलाने वाले उपद्रवियों के घर चला बुलडोजर

शुक्रवार को जुम्मे की नवाज के बाद हिंसा हुई थी

प्रयागराज और कानपुर में पत्थर चलाने वाले उपद्रवियों के घर चला बुलडोजर
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

प्रयागराज में मुख्यमंत्री की सख्ती के बाद उत्तर प्रदेश में अब उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी गई है। शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद जिस प्रकार से प्रयागराज में हिंसा हुई, उसको देखते हुए योगी आदित्यनाथ सरकार ने कड़े ऐक्शन के निर्देश जारी किए। शुक्रवार को हिंसाग्रस्त इलाकों में माहौल को शांत करने में डीएम समेत कई अधिकारी घायल हुए। एडीजी प्रेम प्रकाश और कमिश्नर को लाठी भांजते देखा गया। अब अटाला चौक के आसपास के इलाकों में जहां से पत्थरबाजी हुई थी, वहां बुलडोजर पहुंच गई है। उपद्रवियों की पहचान कर अवैध निर्माणों को ढाहने की तैयारी की जा रही है। वहीं, कानपुर में 3 जून की हिंसा मामले में शनिवार को शासन की कार्रवाई हुई। हिंसा के मास्टरमाइंड जफर हयात हाशमी के एक करीबी के मकान पर बुलडोजर चला है। योगी सरकार ने उपद्रवियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के आदेश दिए हैं।

यूपी पुलिस की कार्रवाई तेज हो गई है। प्रयागराज में उपद्रव वाले इलाकों में दो बुलडोजर पहुंच गए हैं। लोगों से मकान के दस्तावेज मांगे जा रहे हैं। माना जा रहा है कि प्रशासन अवैध निर्माणों पर बुलडोजर का ऐक्शन कर सकता है। लोगों से दस्तावेजों की मांग कर उपद्रवियों को भी चिन्हित करने की कोशिश की जा रही है। उपद्रवियों पर सख्त ऐक्शन की तैयारी की जा रही है। यूपी में हुई हिंसा के मामले में अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने कहा कि प्रशासन और पुलिस की ओर से सभी जिलों में धर्मगुरुओं से बातचीत कर माहौल को शांत करने की कोशिश की गई। सुरक्षा बलों की तैनाती भी की गई। लोगों को समझाया गया। पूरे प्रदेश में चार से पांच स्थानों पर भीड़ जुटी और उपद्रव की कोशिश की गई।

*पत्थरबाजों पर होगी सख्त कार्रवाई*

अपर मुख्य सचिव ने कहा कि सहारनपुर में भी भीड़ बाहर निकली थी, उन्हें समझा-बुझाकर भेज दिया गया। मुरादाबाद और फिरोजाबाद में भी हल्की-फुल्की घटनाओं की रिपोर्ट आई है। प्रयागराज में भीड़ अधिक एकत्र हो गई। नए लड़के ज्यादा इकट्‌ठा हो गए। उन्होंने पत्थरबाजी की। प्रशासन ने यहां स्थिति को काबू में कर लिया है। धर्मगुरुओं से अपील गई है। पत्थरबाजों से घर जाने की अपील की गई है। सभी को घर जाने की अपील की गई है। प्रशासन की ओर से पत्थरबाजी कर रहे 15 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जिला प्रशासन और पुलिस सख्त कार्रवाई करेगी।

एसीएस अवस्थी ने कहा कि हर जिले में स्थिति को नियंत्रित करने के लिए प्रशासन और पुलिस की ओर से कार्रवाई हो रही है। मजिस्ट्रेट और पुलिस बल को मोबिलाइज रखा गया है। सभी बड़े शहरों में शांति रखी गई है। प्रयागराज में जहां अधिक पत्थरबाजी हुई है, वहां पर पत्थरबाजों की पहचान कर उनके खिलाफ सख्ती से कार्रवाई होगी। एसीएस ने कहा कि कानपुर में प्रशासन और पुलिस ने स्थानीय लोगों से संवाद बनाकर शांति बनाए रखने में कामयाबी हासिल की है।

*कानपुर में जफर हयात के करीबी के घर पर कार्रवाई*

कानपुर हिंसा मामले में मुख्य आरोपी जफर हयात हाशमी के करीबी के घर पर बुलडोजर चला। जफर हयात को कानपुर हिंसा का मास्टरमाइंड करार दिया जा रहा है। पुलिस और प्रशासन की ओर से कड़ी कार्रवाई की जा रही है। जिस व्यक्ति के मकान के अवैध हिस्से को गिराया गया है, उसका नाम इश्तियाक बताया जा रहा है। ऐसे में यूपी पुलिस की ओर से कानपुर में एक्शन स्टार्ट हो गया है। माना जा रहा है कि आने वाले समय में इस प्रकार की कार्रवाई आगे भी जारी रहने वाली है।

इश्तियाक के मकान को पहले ही अवैध घोषित किया गया था। प्रशासन का कहना है कि इस मकान का नक्शा पास नहीं कराया गया है। इश्तियाक को जफर हयात का फाइनेंसर और करीबी बताया जा रहा है। कानपुर के बेनी झावर इलाके में स्थित मकान को तोड़ा जा रहा है। कानपुर विकास प्राधिकरण के अधिकारियों का कहना है कि इश्तियाक के आवास के अलावा अन्य मकानों को चिन्हित कर कार्रवाई की जाएगी।

कानपुर विकास प्राधिकार के सचिव ने कहा कि यह इमारत इश्तियाक की है। केडीए की ओर से अवैध निर्माणों के खिलाफ लगातार कार्रवाई चल रही है। पिछले 8 महीने से अवैध निर्माण और बिना नक्शा पास कराए भवनों के खिलाफ कार्रवाई हो रही है।। भूमाफिया के खिलाफ केडीए का एक्शन जारी है और आगे भी इस प्रकार प्रकार की कार्रवाई जारी रहेगी।

Satyapal Singh Kaushik
Next Story
Share it