Top
Begin typing your search...

कोरोना संकट काल में बीहड़ के गांवों में मदद पहुंचा रहे युवा समाजसेवी

कोरोना संकट काल में बीहड़ के गांवों में मदद पहुंचा रहे युवा समाजसेवी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शशांक मिश्रा

चित्रकूट। कोरोना संकटकाल में जहां समाज में एक ओर मौत का मंजर और दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। वहीं, कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इस कठिन समय में भी लोगों की मदद कर रहे हैं। चित्रकूट के डकैत प्रभावित बीहड़ इलाकों में परहित सेवा संस्थान के सदस्यों ने मदद पहुँचाने का बीड़ा उठाया है। परहित सेवा संस्थान के प्रबंधक अनुज हनुमत, हेमनारायण द्विवेदी, सचिन वन्दन और शंकर दयाल गर्ग शामिल हैं। यह सभी युवा पेशे से पत्रकार ,समाजसेवी हैं, जो हर दिन गांव की समस्यायों को अपने कैमरे में कैद कर ही रहे हैं। साथ-साथ ग्रामीणों का दुख दर्द भी बांट रहे हैं और जरूरतमन्दों तक मदद पहुंचा रहे हैं।

परहित सेवा संस्थान के प्रबंधक समाजसेवी अनुज हनुमत ने बताया कि इस समय पूरा देश कोरोना से लड़ाई लड़ रहा है और ऐसे में बहुत से ऐसे गरीब परिवार हैं जिन्हें खाने और दवा की जरूरत है। ऐसे सभी लोगों तक हमारी टीम मदद पहुँचाने की कोशिश में लगी है। हम कोशिश कर रहे हैं। धर्मनगरी चित्रकूट में जरूरतमन्दों की मदद हेतु एक मानव श्रंखला बनाई जा सके जिससे हर क्षेत्र में उन लोगो की मदद की जा सके जिन्हें वास्तव में जरूरत है। अनुज हनुमत ने बताया कि अब तक हमारी टीम ने 500 आदिवासी परिवारो को जरूरत की राशन किट पहुंचाई है और लगभग एक सैकड़ा दिव्यांग और गर्भवती महिलाओं तक भी हमने सहायता पहुँचाई है। हमारा लक्ष्य ये है कि इस संकटकाल में कोई भी परिवार भूख से न मरे और न ही कोई आवश्यक जरूरतो से जूझे ।

समाजसेवी हेमनारायण द्विवेदी का कहना है कि ये कठिन समय मानवता की परीक्षा का है जिसमें हमें एक दूसरे की मदद करनी होगी। हमारी टीम गांवो में पहुंचकर जरूरतमंदों तक मदद पहुंचा रही है। हमारा प्रयास लगातार जारी है जहां लोगो का जुड़ाव तेजी से हो रहा है। सचिन वन्दन ने बताया कि आज हमारी टोली ख़ान पान की चीजें लेकर ग्राम पंचायत डोडा माफ़ी के बिजहना पुरवा पहुंची तो लोगों के चेहरे खिल उठे। कहा कि अब 'चुनाव होईगे है दादू अब कौनो नेता न आइ, दादू भगवान तुम्हार भला करय ।' वहीं, टीम के अन्य सदस्य शंकर दयाल गर्ग का कहना है कि हमारा प्रयास छोटा जरूर है लेकिन हम इसे जारी रखेंगे क्योंकि इस संकटकाल में जितनी ज्यादा से ज्यादा मदद हो पाए वो जरूरी है।

सोशल मीडिया में भी युवाओं द्वारा कई तरह से मदद के कार्य किए जा रहे हैं। कर्वी निवासी अमन गुप्ता द्वारा जो फेसबुक पर 90 हजार से अधिक लोगों का ग्रुप चलाते हैं। अमन लगातार गरीबों की मदद में अपने ग्रुप के सदस्यों द्वारा संघर्षरत हैं। अनुज हनुमत ने बताया कि उनकी टीम के द्वारा व्हाट्सएप पर 'कोविड हेल्प डेस्क' के नाम से एक ग्रुप चलाया जा रहा है, जिसमें जिले के कई युवा साथी और व्यपारी जुड़े हैं जो सूचना आने पर मदद कर रहे हैं।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it