Top
Begin typing your search...

26 पुलिसकर्मियों ने बरामद की 370 लीटर अवैध शराब

गिरफ्तारी एक अभियुक्त की भी नही, आधा दर्जन निश्चित गांवो में आये दिन छापेमारी कर दिखाई जाती बरामदगी

26 पुलिसकर्मियों ने बरामद की 370 लीटर अवैध शराब
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

फतेहपुर । भले ही बकेवर पुलिस आला अधिकारियों की वाहवाही लूटने के लिए गुडवर्क दिखाने की होड़ में हमेशा की तरह थाना क्षेत्र के कंजरन डेरा गाँव मे आकस्मिक दबिश देकर लगभग 370 लीटर अवैध शराब के साथ उपकरण व भट्ठी बरामद कर अपने मुंह मियां मिट्ठू बन रही हो। लेकिन इस अभियान में लगी 26 पुलिस कर्मियों की टीम एक अदद भी आरोपी की गिरफ्तारी करने में नाकाम रही है। जिससे स्थानीय पुलिस पर भी लोगों ने तरह तरह के सवाल उठाए हैं।

जानकारी के अनुसार अवैध शराब तश्करों व बनाने वालों के खिलाफ अभियान को तेज करते हुए मंगलवार को बकेवर थाना प्रभारी संगम लाल प्रजापति ने आबकारी निरीक्षक व तीन उपनिरीक्षकों समेत लगभग 26 पुलिस कर्मियों की संयुक्त टीम के साथ थाना क्षेत्र के कंजरन डेरा गाँव मे आकस्मिक दबिश देकर आधा दर्जन अभियुक्तों अवैध शराब बनाने वाले लोगों के पास से लगभग 370 लीटर अवैध कच्ची शराब 14 कुंतल लहन भट्ठी व उपकरण बरामद किया है।

पुलिस ने छः आरोपितों के खिलाफ सुसंगत धाराओ में मुकद्दमा भी दर्ज किया। लेकिन इस ऑपरेशन में शामिल 26 पुलिस कर्मियों की टीम एक भी अदद आरोपी को गिरफ्तार करने में पुलिस पूरी तरह नाकाम रही है।आरोपियों की गिरफ्तारी कर पाने में पुलिस के नाकाम रहने से लोगो के बीच तरह तरह की चर्चाएं भी उठ रही हैं। आवाम ने स्थानीय पुलिस की ईमानदार कार्यशैली में भी प्रश्नचिन्ह लगाया है।

लोगों का कहना है कि जब पुलिस हर दो चार दिन के अंतराल में थाना क्षेत्र के उपरोक्त गाँव मे लगभग इन्हीं घरों में आकस्मिक छापेमारी कर हर बार भारी मात्रा में अवैध शराब व लहन बरामद करती है तो फिर आरोपितों की गिरफ्तारी क्यों नहीं कर पाती। या फिर उपरोक्त गांव में अवैध शराब बनाने व बेंचने के अवैध कारोबार को पूरी तरह बंद क्यों नहीं करवा पा रही है। क्या पुलिस बुजुर्गों द्वारा कही जाने वाली उसी कहावत हाँथी के दांत खाने के कुछ और दिखाने के कुछ और होते हैं वाली कहावत को चरितार्थ करने में तुली हुई है। जिससे उसे भारी मात्रा में आये दिन अवैध शराब बरामद कर आलाधिकारियों की नजर में गुडवर्क कर हीरो बनने में आसानी हो। स्थानीय पुलिस की हर बार की यह कार्यशैली लोगो की समझ से परे है।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it