Begin typing your search...

180 किलो का फर्जी इंस्पेक्टर यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार, क्यों बना इंस्पेक्टर, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

पुलिस की वर्दी पहने एक शख्स बता रहा है कि उसका नाम मुकेश यादव है, जो गाजियाबाद का रहने वाला है..!!

180 किलो का फर्जी इंस्पेक्टर यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार, क्यों बना इंस्पेक्टर, वजह जानकर हो जाएंगे हैरान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

फिरोजाबाद : सोशल मीडिया पर एक फर्जी पुलिसकर्मी का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें पुलिस की वर्दी पहने एक शख्स बता रहा है कि उसका नाम मुकेश यादव है, जो गाजियाबाद का रहने वाला है और टोल टैक्स बचाने के लिए पुलिसकर्मी की वर्दी पहनता है। इतना ही नहीं, शख्स फर्जी पुलिस वाला बनकर गाड़ियों से अवैध वसूली भी करता था। जब इसकी जानकारी टूंडला पुलिस को हुई तो उन्होंने युवक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। पुलिस का दावा है कि पकड़ा गया आरोपी 180 किलो का है। अब सोशल मीडिया के तमाम प्लेटफॉर्म्स पर शख्स का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसके साथ यूजर्स मजाकिया टिप्पणी भी कर रहे हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, टूंडला के पुलिस क्षेत्राधिकारी हरिमोहन सिंह ने रविवार को बताया कि शनिवार रात राष्ट्रीय राजमार्ग पर कई वाहनों से अवैध वसूली करने की जानकारी मिली, जिसके बाद शख्स को अवैध वसूली करते हुए रंगेहाथों पकड़ा गया और गिरफ्तार कर लिया गया। बताया गया कि वह फर्जी इंस्पेक्टर बनकर नेशनल हाईवे से निकलने वाले वाहनों को डरा धमका कर जब्त करने की धमकी दे कर उनसे अवैध वसूली कर रहा था। मुकेश यादव पुत्र रामकिशन यादव गाजियाबाद के मकान नंबर-320 कड़कड़ मॉडल, साहिबाबाद थाना लिंक गेट का रहने वाला है। वह टोल टैक्स बचाने के लिए भी पुलिस की वर्दी का इस्तेमाल करता था।

आरोपी मुकेश के पास से दो आधार कार्ड, दो पैन कार्ड, पुलिस की वर्दी, फर्जी आईकार्ड, एटीएम आदि कागजातों के अलावा एक वैगनआर कार भी बरामद की गई है, जिस पर 'पुलिस' का बड़ा सा स्टीकर लगाकर चलता था। इस दौरान उसके दो साथी भी होते थे, जिनके साथ मिलकर प्राइवेट बसों और ट्रकों की चेकिंग के नाम पर अवैध वसूली किया करता था। सी.ओ. टूंडला हरिमोहन सिंह ने बताया कि आरोपी से पूछताछ की जा रही है। यह पता लगाने का प्रयास किया जा रहा कि इसके गैंग में कितने लोग शामिल हैं।

वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि, जब उससे पूछा जाता है कि वह पुलिस की वर्दी क्यों पहनता है? जिसके जवाब में वह बताता है कि वह टोल टैक्स बचाने के लिए पुलिस की वर्दी पहनता था। जब उससे यह पूछा जाता है कि पुलिस में कैसे भर्ती हुआ जाता है तो वह बताता है कि उसे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है।

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it