Top
Begin typing your search...

फिरोजाबाद में वायरल बुखार का कहर, छह और बच्चों ने गंवाई जान

फिरोजाबाद में वायरल बुखार का कहर, छह और बच्चों ने गंवाई जान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

फिरोजाबाद में मौतों का आंकड़ा तेजी से बढ़ने के कारण अब मंडल भर के स्वास्थ्य अधिकारियों में हड़कंप है। तो वायरल फीवर से बुधवार को सात और बच्चों की जान चली गई। अब तक जिले में 63 मरीजों की मौत हो चुकी है। इनमें ज्यादातर बच्चे हैं। बच्चों की मौत के बाद शासन-प्रशासन सख्त है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दौरे के बाद सीएमओ डॉ. नीता कुलश्रेष्ठ पर बुधवार को गाज गिर गई। उनका तबादला अलीगढ़ में वरिष्ठ परामर्शदाता के पद पर कर दिया गया है। हापुड़ में एसीएमओ के पद पर तैनात डॉ. दिनेश कुमार प्रेमी को फिरोजाबाद जिले का सीएमओ बनाया गया है।

जिले में बुधवार को कौशल्या नगर निवासी शिवानी (12) पुत्री ज्ञानचंद्र शंखवार की सौ शैया अस्पताल में मौत हो गई। पिता ज्ञानचंद्र ने बताया कि अस्पताल में ड्रिप चढ़ाने के बाद शिवानी उठी और गिर गई। आरोप है कि हालत बिगड़ने पर भी स्टाफ नहीं आया। बाद में प्राचार्य आईं लेकिन कुछ ही देर में उसकी मौत हो गई।

दमन निवासी निराली (4) पुत्री अजय कुमार की भी मौत हो गई। वह विगत दिनों जिले में अपनी नानी के घर आई थी। लालऊ रोड स्थित बिहारीपुरम निवासी पीयूष (14) पुत्र रमेशचंद्र यादव की निजी अस्पताल में मौत हो गई। उसका डेंगू का इलाज चल रहा था।

किशन नगर आसफाबाद निवासी रश्मि (13) पुत्री उदयवीर की आगरा मेडिकल कॉलेज में ले जाते समय मौत हो गई। हाथवंत के गांव बखार निवासी रितेश (5) ने भी बुधवार सुबह दम तोड़ दिया। जैन नगर निवासी शगुन पुत्री शशिकांत कश्यप की बुधवार शाम निजी अस्पताल से आगरा ले जाते समय मौत हो गई। बालिका के गले से खून आया था। जांच रिपोर्ट में डेंगू की पुष्टि हुई है। सत्यनगर टापा निवासी अंशिका कश्यप (12) पुत्री टैनी कश्यप ने भी बुधवार शाम दम तोड़ दिया।

डीएम चंद्र विजय सिंह ने बुधवार को सौ शैया अस्पताल और डेलीगेटेड आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने बीमार बच्चों का हाल जाना चिकित्सकों को निर्देश दिए कि मरीजों का निरंतर परीक्षण कर स्वास्थ्य पर पैनी नजर रखें। मरीजों के तीमारदारों को भी उन्होंने भरोसा दिया कि रक्त के अभाव में किसी की जान नहीं जाने दी जाएगी।


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it