Top
Begin typing your search...

यूपी : नोएडा-गाजियाबाद में शराब की बिक्री शुरू, उमड़ी भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां

ठेका खुलते ही लगी ग्राहकों की भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां, संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ा, ग्राहकों की लंबी कतार!

यूपी : नोएडा-गाजियाबाद में शराब की बिक्री शुरू, उमड़ी भीड़, सोशल डिस्टेंसिंग की उड़ी धज्जियां
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच यूपी में लॉकडाउन लगा हुआ है. इस पाबंदी के बीच गौतमबुद्ध नगर में शराब की दुकानों को खोलने का निर्देश दिया गया है. गौतमबुद्ध नगर जिले में सभी शराब और बीयर की दुकानें खोलने का निर्देश दे दिया गया है. ठेका खुलते ही ग्राहकों की भीड़ लग गयी. सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ रहीं हैं. संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ गया है. ग्राहकों की लंबी कतार है और पुलिस नदारद है.

गौतमबुद्ध नगर और गाजियाबाद जिले में आज से मंगलवार शराब की दुकानें खुल रही हैं. बिक्री शुरू हो गयी है. सभी दुकानों पर कैंटीन को बंद रखा जाएगा. दुकानों के बाहर 6 फीट की दूरी पर गोला बनाना होगा, ताकि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करवाया जा सके. लेकिन दुकानों के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई जा रहीं हैं. लोग मास्क लगाकर शराब की दुकानों पर पहुंच रहे हैं, और स्टॉक ले रहे हैं. दुकानों के बाहर लोगों की जबरदस्त भीड़ उमड़ पड़ी है.

जिले में कुल 524 शराब की दुकानें हैं. हालांकि, इस दौरान किसी भी दुकान की कैंटीन नहीं खुलेगी और कोरोना गाइडलाइन्स का पालन किया जाएगा.

यूपी के अन्य कुछ जिलों में बुधवार से शराब की दुकानें खुल सकती हैं. जानकारी के मुताबिक, यूपी के बनारस समेत कुछ ज़िलों में ज़िलाधिकारियों ने एक बजे दिन तक शराब की दुकानें और बाकी ज़रूरी सामानों की दुकानें खोलनी की इजाज़त दी है. आबकारी सूत्रों के मुताबिक, कर्फ्यू का फ़ैसला करते वक्त सरकार की तरफ से आबकारी की दुकानें को बंद करने का कोई आदेश नहीं था. लेकिन पिछले कई दिनों से दुकानें बंद चल रही हैं. जिसकी वजह से दुकानदारों ने आपत्ति दर्ज कराई थी.

बीते दिनों ही एसोसिएशन ने आबकारी विभाग से दुकानों को खोलने की परमीशन देने के लिये कहा है. इसी क्रम में अपने विवेकाधीन फ़ैसले के तहत जिले के ज़िलाधिकारी शराब की दुकानें खोलने की इजाज़त दे सकते हैं.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it