Top
Begin typing your search...

डॉ. कफील खान की पत्नी ने योगी सरकार समेत 11 जगह लगाई गुहार, मथुरा जेल में....

एएमयू में सीएए विरोधी एक प्रदर्शन के दौरान पिछले साल 12 दिसंबर को कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के सिलसिले में डॉ. कफील के खिलाफ अलीगढ़ के सिविल लाइंस थाने में मामला दर्ज किया गया था। वही खान को मुंबई हवाईअड्डे से 29 जनवरी को गिरफ्तार किया था।

डॉ. कफील खान की पत्नी ने योगी सरकार समेत 11 जगह लगाई गुहार, मथुरा जेल में....
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गोरखपुर। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर भड़काऊ भाषण देने के आरोप में मथुरा जेल में बंद गोरखपुर के डॉ कफील खान की पत्नी डॉ शाबिस्ता ने अपने पति की जान को खतरा होने की आशंका जताई है। उन्होंने कहा कि जेल के अंदर मेरे पति के साथ अमानवीय व्यवहार और प्रताड़ित किया जा रहा है. बकौल शाबिस्ता खान पत्र में लिखती है कि जेल के अंदर इससे पहले भी हत्या हो चुकी है. ऐसे में योगी सरकार जांच कराकर मदद करे. उन्होंने इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश सहित कई अधिकारियों को पत्र लिखकर जेल में डॉ कफील को सुरक्षा देने की मांग की है।


डॉ कफील राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत 13 फरवरी से मथुरा जेल में बंद हैं। जेल में उनसे मुलाकात के बाद डॉ शाबिस्ता ने इलाहाबाद हाईकोर्ट, अपर मुख्य सचिव (गृह विभाग), जेल महानिदेशक और अलीगढ़ व मथुरा के न्यायिक एवं प्रशासनिक अधिकारियों को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि जेल में उनके पति से अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है। उन्होंने डॉ कफील की हत्या की आशंका जताते हुए उन्हें सुरक्षा उपलब्ध कराने की अपील की है।

दरअसल, एएमयू में सीएए विरोधी एक प्रदर्शन के दौरान पिछले साल 12 दिसंबर को कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के सिलसिले में डॉ. कफील के खिलाफ अलीगढ़ के सिविल लाइंस थाने में मामला दर्ज किया गया था यूपी स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने खान को मुंबई हवाईअड्डे से 29 जनवरी को गिरफ्तार किया था।

बता दें कि संशोधित नागरिकता कानून (CAA) के खिलाफ अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के सिलसिले में मथुरा जिला कारागार में कैद डॉ कफील खान की जमानत पर रिहाई से पहले ही उन पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) लगा दिया गया था डॉ. कफील खान को अगस्त 2017 में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी की वजह से हुई 60 से ज्यादा बच्चों की मौत के मामले में गिरफ्तार किया गया था. करीब 2 साल के बाद जांच में खान को सभी प्रमुख आरोपों से बरी कर दिया गया था।


Sujeet Kumar Gupta
Next Story
Share it