Top
Begin typing your search...

पीएम मोदी गोरखपुर को देंगे 9,600 करोड़ की सौगात, खाद कारखाना और AIIMS का करेंगे उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2016 में खाद कारखाने का शिलान्यास किया था और तय समय सीमा के अंदर यह कारखाना बनकर तैयार है।

पीएम मोदी गोरखपुर को देंगे 9,600 करोड़ की सौगात, खाद कारखाना और AIIMS का करेंगे उद्घाटन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज गोरखपुर के दौरे पर एक बार फिर पूर्वांचल को कोरोड़ों की परियोजनाओं की सौगात देने वाले हैं । पीएम मोदी करीब 9,600 करोड़ की परियोजनाओं को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। इन परियोजनाओं में सबसे अहम है गोरखपुर का खाद कारखाना, जिसकी कुल लागत 8603 करोड़ है ।

इसके अलावा पीएम मोदी गोरखपुर में एम्स और आरएमआरसी के जांच केंद्र का भी उद्घाटन करेंगे। जानकारी के मुताबिक दोपहर 12 बजकर 25 मिनट पर प्रधानमंत्री गोरखपुर पहुंचेंगे और 1 बजे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी फर्टिलाइजर प्लांट, एम्स गोरखपुर,आईसीएमआर जांच केंद्र के साथ कई योजनाओं का लोकार्पण करेंगे।

12 लाख मीट्रिक टन से अधिक यूरिया का उत्पादन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2016 में खाद कारखाने का शिलान्यास किया था और तय समय सीमा के अंदर यह कारखाना बनकर तैयार है। हिंदुस्तान फर्टिलाइजर के नाम से करीब 600 एकड़ क्षेत्रफल में बने इस कारखाने को पीएम मोदी आज राष्ट्र को समर्पित करेंगे। इसमें 12 लाख मीट्रिक टन से अधिक यूरिया का उत्पादन किया जाएगा। इससे क्षेत्र के किसानों को तो लाभ होगा, साथ ही साथ रोजगार की संभावनाओं को आगे बढ़ाने में भी इसकी बहुत बड़ी भूमिका होगी।

112 एकड़ क्षेत्र में बने एम्स का भी उद्घाटन

प्रधानमंत्री मोदी आज 112 एकड़ क्षेत्र में बने एम्स का भी उद्घाटन करेंगे। वर्ष 2016 में पीएम मोदी ने इसका शिलान्यास किया था। नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलॉजी' पुणे की तर्ज पर आईसीएमआर का एक क्षेत्रीय केन्द्र भी गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बनकर तैयार हो चुका है। प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार को इसका भी उद्घाटन करेंगे। इस केंद्र का शिलान्यास वर्ष 2018 में हुआ था। यह न सिर्फ इंसेफलाइटिस, कालाजार, चिकनगुनिया और डेंगू बल्कि कोविड-19 जैसी महामारी से जुड़े वायरस की भी पहचान करने के साथ-साथ उनके उपचार के लिए अनुसंधान को आगे बढ़ाने इत्यादि का काम भी करेगा।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it