Top
Begin typing your search...

हाथरस पुलिस ने प्रचीन मंदिर में डकैती का डेढ़ साल बाद किया खुलासा, अष्टधातु की तीन मूर्तियों के साथ 4 बदमाश गिरफ्तार

एसपी विनीत जायसवाल ने सराहनीय कार्य करने वाली टीम को 25 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की है।

हाथरस पुलिस ने प्रचीन मंदिर में डकैती का डेढ़ साल बाद किया खुलासा, अष्टधातु की तीन मूर्तियों के साथ 4 बदमाश गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

हाथरस : उत्तर प्रदेश के जनपद हाथरस में पुलिस ने एक बड़ी कामयाबी हासिल की है। एसपी विनीत जायसवाल ने सराहनीय कार्य करने वाली टीम को 25 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा की है।

थाना सिकन्द्राराऊ पुलिस तथा एस.ओ.जी टीम की संयुक्त कार्यवाही में डेढ़ वर्ष पूर्व थाना सिकन्द्राराऊ क्षेत्रान्तर्गत प्राचीन मन्दिर में हुई डकैती की घटना का सफल अनावरण किया गया। कस्बा पुरदिलनगर के प्राचीन ठाकुर मुरली मनोहर जी महाराज मंदिर में डेढ़ साल पहले हुई डकैती के मामले में पुलिस ने बुधवार को खुलासा कर दिया है। सिकंदराराऊ पुलिस और एसओजी ने चार बदमाशों को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया है। उनके पास से अष्टधातु की तीन मूर्तियां, तमंचे और कारतूस मिले हैं।

ये थी घटना

27-28 नवंबर 2019 की रात दो बजे सात-आठ बदमाश पुरदिलनगर के 115 वर्ष पुराने ठाकुर मुरली मनोहर महाराज मंदिर में घुस आए थे। बदमाशों पर तमंचे, चाकू, सरिया व अन्य हथियार थे। बदमाशों ने पुजारी अजीत कुमार व उनकी पत्नी सुमन पीटा और उन्हें बंधक बनाकर डाल दिया था। इसके बाद बदमाश अष्टधातु की चार बहुमूल्य मूर्तियां लूटकर ले गए थे। इस मामले की रिपोर्ट कस्बे के ही कमल माहेश्वरी ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ दर्ज कराई थी। घटना के बाद लोगों में आक्रोश था। लोगों ने बाजार बंद कर विरोध भी जताया था। कई दिनों तक प्रदर्शन भी हुए थे, लेकिन पुलिस आरोपितों को गिरफ्तार नहीं कर पाई थी।

आरोपितों की गिरफ्तारी के संबंध में एसपी विनीत जायसवाल ने कार्यालय पर प्रेसवार्ता की। उन्होंने बताया कि इस घटना के खुलासे के लिए सीओ सिकंदराराऊ के नेतृत्व चार टीमों का गठन कर बदमाशों की गिरफ्तारी की कोशिश की जा रही थी। मंगलवार की रात को जानकारी मिली कि बदमाश पुरदिलनगर की नहर पटरी पर खड़े हैं। सिकंदराराऊ पुलिस और एसओजी ने बदमाशों की घेराबंदी शुरू कर दी। मुठभेड़ के बाद चार बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया गया।

पूछताछ में चारों ने अपने नाम प्रमोद जाटव निवासी मूर्ति वाली गली काली मंदिर के पास लाला का नगला हाथरस, आशिक उर्फ गुल्ला, दीपू और जावेद निवासीगण गंभीर पट्टी बिसाना थाना चंदपा बताए हैं। प्रमोद की उम्र 40 वर्ष है जबकि अन्य तीनों बदमाश 20 से 22 वर्ष के हैं। इनके पास से तीन मूर्तियां, दो तमंचा 315 बोर व चार कारतूस मिले हैं। बरामद मूर्ति राधारानी, मुरली मनोहर भगवान और लड्डू गोपाल की हैं। एसपी ने बताया कि तीन अन्य बदमाशों की तलाश जारी है। चौथी मूर्ति भी जल्द बरामद की जाएगी।


चारों बदमाशों को गिरफ्तार करने वाली टीम में एसएचओ सिकंदराराऊ प्रवेश राणा, इंस्पेक्टर जगदीश चंद्र, एसआई घनेंद्र शर्मा, प्रमोद कुमार, प्रेमनाथ, एसओजी के हेड कांस्टेबल शीलेश कुमार, जवाहर सिंह, सचिन कुमार, चेतन राजौरा, सोनवीर सिंह, जोगेंद्र सिंह, सिकंदराराऊ के कांस्टेबल अरविंद कुमार, अभिषेक उज्जवल, आकाश उज्जवल, ज्वाला सिंह शामिल थे।


पुरदिलनगर-सिकंदरराऊ रोड पर नहर के पास स्थित ठाकुर मुरली मनोहर मंदिर 115 वर्ष पुराना है। इस मंदिर में स्थानीय लोगों की असीम अास्था है। दूसरी जगहों से भी लोग यहां दर्शन के लिए आते हैं। वर्ष 1965 में चौधरी मटरूमल जाखेटिया ने मंदिर का पुननिर्माण कराया था। मंदिर में 115 साल पुरानी राधा-कृष्ण की छोटी व बड़ी दो-दो अष्टधातु की मूर्तियां थीं। डकैती की घटना के बाद लोगों में आक्रोश था। कई दिनों तक लोगों ने बाजार बंद रखकर प्रदर्शन किया था। कई जनप्रतिनिधि और नेता भी घटना के संबंध में जानकारी के लिए पहुंचे थे। पुलिस ने चार मूर्तियों में से तीन बरामद कर ली हैं। भगवान कृष्ण की अष्टधातु की बड़ी मूर्ति अभी बरामद नहीं हुई है।

डेढ़ वर्ष बाद डकैती की खुलासे और मूर्तियों की बरामदगी होने पर कस्बावासियों में खुशी की लहर है। व्यापार मंडल के मंडल अध्यक्ष ओमप्रकाश गुप्ता, सिकंदराराऊ के व्यापारी नेता विपिन वाष्र्णेय, पुरदिलनगर के पूर्व चेयरमैन हर्षकांत कुशवाह, सुरेश चंद आर्य, डीसी गुप्ता, सचिन दीक्षित ने पुलिस अधीक्षक और उनकी टीम की सराहना करते हुए आभार प्रकट किया है। जल्द ही पुलिस टीम का सम्मान करने की बात कही है।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it