Top
Begin typing your search...

मुख्तार अंसारी के खौफ और 'साम्राज्य' के अंत के पीछे है ये IPS अफसर, जानें- कैसे दिया अंजाम

मुख्तार अंसारी के खौफ और साम्राज्य के अंत के पीछे है ये IPS अफसर, जानें- कैसे दिया अंजाम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पिछले कुछ महीनों में ही यूपी पुलिस ने अंसारी के कब्जे वाली सरकारी (करीब 53 करोड़ रुपये की) और निजी जमीनों पर से कब्जा छुड़वाया है.

उत्तर प्रदेश : 'मऊ का डॉन'…गूगल पर जब आज यह सर्च करेंगे तो जिस मुख्तार अंसारी की तस्वीरें आपको दिखेंगी वह इन दिनों फिर चर्चा में है. लेकिन इस बार खौफ के किस्से-कहानियों के लिए नहीं बल्कि उसपर हो रहे यूपी सरकार के ऐक्शन की वजह से. चुनावी हलफनामे में खुद को 'किसान' बताने वाले गैंगस्टर और बीएसपी विधायक मुख्तार अंसारी ने करीब 30 साल तक लोगों पर अत्याचार किया लेकिन अब सरकार की सख्ती और पुलिस को मिले फ्र...

उत्तर प्रदेश : 'मऊ का डॉन'…गूगल पर जब आज यह सर्च करेंगे तो जिस मुख्तार अंसारी की तस्वीरें आपको दिखेंगी वह इन दिनों फिर चर्चा में है. लेकिन इस बार खौफ के किस्से-कहानियों के लिए नहीं बल्कि उसपर हो रहे यूपी सरकार के ऐक्शन की वजह से. चुनावी हलफनामे में खुद को 'किसान' बताने वाले गैंगस्टर और बीएसपी विधायक मुख्तार अंसारी ने करीब 30 साल तक लोगों पर अत्याचार किया लेकिन अब सरकार की सख्ती और पुलिस को मिले फ्री हैंड के बाद उसपर ऐक्शन जारी है.

मुख्तार अंसारी के डर की वजह से जिस आजमगढ़ में कोई पुलिसवाला तैनात होने से डरता था, वहां डीआईजी सुभाष चंद्र दुबे यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के सपोर्ट से खुलकर काम कर रहे हैं.

पिछले कुछ महीनों में ही यूपी पुलिस ने अंसारी के कब्जे वाली सरकारी (करीब 53 करोड़ रुपये की) और निजी जमीनों पर से कब्जा छुड़वाया है. इतना ही नहीं उसके गैंग के लोगों की धर-पकड़ जारी है. साथ ही साथ अंसारी और उसके साथियों के नाम पर इशू हथियारों के लाइसेंस भी कैंसल किए जा रहे हैं. अंसारी पर 5 मर्डर और 5 हत्या की कोशिश के केस दर्ज हैं, जिसकी वजह से आम लोगों के साथ-साथ पुलिसवाले भी उससे खौफ खाते थे. इस वजह से पिछले एक साल में प्रशासन ने उसके कब्जे वाली कोई जमीन छुड़वाने की कोशिश तक नहीं की. लेकिन अब स्थिति वैसी नहीं है.


कौन हैं सुभाष चंद्र दुबे

सुभाष चंद्र दुबे 2005 बैच के आईपीएस अफसर हैं. जनवरी में उनको आजमगढ़ पोस्टिंग मिली थी. उन्होंने अंसारी गैंग को तोड़ने का हर संभव प्रयास किया है. संडे गार्जियन से बात करते हुए सुभाष चंद्र दुबे ने कहा, 'हम अंसारी के खिलाफ हर तरीके से एक्शन ले रहे हैं. उसकी वित्तीय शक्ति को छीना जा रहा है जो कि उसका सबसे बड़ा हथियार माना जा रहा था. उसके गैंग के लोगों को पकड़ा जा रहा है ताकि आम लोग खौफ से बाहर सांस ले सकें.'

डीआईजी सुभाष चंद्र दुबे ने आगे कहा, 'मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मेरे सीनियर्स ने मुझसे कहा कि हमें राज्य से क्रिमिनल्स का सफाया करना है. हम इसी की कोशिशों में लगे हुए हैं. जब ग्राउंड पर अफसर को सीएम और सीनियर्स का साथ मिले तो कोई गैंगस्टर चाहे वह कितना भी बड़ा हो वह प्रशासन की शक्ति का सामना नहीं कर सकता.'

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it