Top
Begin typing your search...

पुलिस कस्टडी में युवा किशन यादव की मौत के बाद पुलिस पर पथराव, इंस्पेक्टर और सिपाही घायल

पुलिस कस्टडी में युवा किशन यादव की मौत के बाद पुलिस पर पथराव, इंस्पेक्टर और सिपाही घायल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उत्तर प्रदेश पुलिस के दिन अभी ज्यादा खराब चल रहे है. इस सप्ताह में पुलिस पर यह तीसरा हमला है. जहां सोमवार को कासगंज में तो मंगलवार को शाहजहांपुर में अब जौनपुर में पुलिस पर हमला बोला गया है.

मिली जानकारी के मुताबिक बक्सा थाना क्षेत्र में पुलिस कस्टडी में युवक की मौत मामला सामने आया है जिससे स्थानीय लोगों में आक्रोश आ गया और पुलिस पर पथराव करने लगे. प्रदर्शन कर रहे लोगों को रोकने पर पथराव में इंस्पेक्टर और सिपाही गंभीर रूप से घायल हो गए है. जिन्हें अस्पताल ले जाया गया है.

जिले में गुरुवार देर रात पुलिस की पिटाई से एक युवक की मौत का मामला सामने आने के बाद शव अस्‍पताल में फेंक कर पुलिसकर्मी मौके से भाग गए. वहींं मामले की जानकारी होने के बाद पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंंच गए. परिजनों के अनुसार बक्सा थाने में पुलिस अभिरक्षा में चोरी के एक संदिग्‍ध मामले में पुलिस आरोपत को ले गई और पीट पीट कर उसकी हत्‍या कर दी। मौत होने के बाद उसे अस्‍पताल में फेंककर भाग गए. वहीं मौत की जानकारी होने के बाद सुबह ग्रामीण आक्रोशित हो गए और मार्ग जाम कर प्रदर्शन करने लगे. इब्राहिमाबाद में रास्ता जाम किए उग्र भीड़ ने पुलिस वाहन पर इस दौरान पथराव भी किया.


वहीँ प्रदर्शनकारी युवक की मौत से खासे नाराज नजर आ रहे है. स्थानीय लोंगो का कहना है कि पुलिस कस्टडी में थर्ड डिग्री का प्रयोग करने से युवक की मौत हो गई है. इसकी मौत के लिए पुलिस जिम्मेदार है और उसके खिलाफ केस दर्ज होना चाहिए , घटना की जानकारी मिलने पर उच्चाधिकारी घटना स्थल की और दौड़ पड़े है.

बक्शा थाना क्षेत्र के चक मिर्जापुर गांव निवासी किशन यादव उर्फ पुजारी (22) की गुरुवार की रात पुलिस हिरासत में मौत हो गई. बोलेरो से तड़के साढ़े पांच बजे बक्शा थाना के पुलिसकर्मी जिला अस्पताल के इमरजेंसी में लेकर पहुंचे. डाक्टर के मृत घोषित करते ही शव छोड़कर भाग गए. स्वजन का आरोप है कि पुलिस उसे गुरुवार शाम साढ़े पांच बजे हिरासत में लेकर थाने गई थी. रात में पिटाई से उसकी मौत हो गई. जिला अस्पताल में एसपी राज करन नय्यर भी पहुंच गए और मामले की जानकारी ली.


वारदात की जानकारी सुबह जंगल की आग की तरह फैल गई तो आनन फानन पुलिस फोर्स की तैनाती के साथ ही सुरक्षा भी बढ़ा दी गई. वहीं जानकारी होने के बाद सुबह दस बजे के बाद से ही लोगों का गुस्‍सा बढ़ता गया और आनन फानन जौनपुर-प्रयागराज मार्ग पर इब्राहिमाबाद गांव के पास परिजनों के साथ ग्रामीणों ने जाम लगाकर आवागमन बंद कर दिया. आवागमन बंद होने के साथ ही दूर तक वाहनों की कतार लग गई. हालांकि, प्रदर्शन के दौरान पुलिस कर्मी दूर से ही क्षेत्र में नजर बनाए रहे.


वारदात की बाबत पुलिस अधीक्षक राज करन नय्यर ने बताया कि रुपयों से भरे बैग की छिनैती के एक मामले में पुलिस ने आरोपित को पकड़ा था. उसके कब्‍जे से रुपयों से भरा बैग और निशानदेही पर कई मोबाइल भी बरामद की गई थी. देर रात आरोपित को पेट में दर्द हुआ तो उसे प्राथमिक उपचार के लिए स्‍वास्‍थ्‍य केंद्र ले जाया गया लेकिन वहां भी उसकी हालत ठीक न होने पर जिला अस्‍पताल ले जाया गया. जहां उसकी मौत डाक्‍टरों द्वारा बतायी गई. इस बाबत नियमानुसार मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दे दिए गए हैं. साथ ही थानाध्‍यक्ष बक्‍शा और तैनात रहे अन्‍य पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। आगे जांच कर विधिक कार्रवई की जाएगी.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it