Begin typing your search...

कानपुर : हिस्ट्रीशीटर को भागने वाले बीजेपी नेता की तलाश में पुलिस की छापेमारी, BJP ने भी कर दी छुट्टी

अब मामला दर्ज कर भदौरिया और उसके साथियों की तलाश में पुलिस की दबिश जारी है.

कानपुर : हिस्ट्रीशीटर को भागने वाले बीजेपी नेता की तलाश में पुलिस की छापेमारी, BJP ने भी कर दी छुट्टी
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

कानपुर : उत्‍तर प्रदेश के कानपुर शहर के एक बीजेपी नेता, एक वांटेड अपराधी की गिरफ्तारी के बाद उसे कथित तौर पर भागने में मदद करने में मामले में पुलिस केस का सामना कर रहे हैं. कानपुर पुलिस कमिश्‍नर असीम अरुण ने इस बात की पुष्टि की है कि पुलिस ने बीजेपी नेता नारायण सिंह भदौरिया का नाम एफआईआर में शामिल किया है. उनकी उस वीडियो में उस स्‍थान पर मौजूदगी की पुष्टि हुई थी जहां से वांटेड क्रिमिनल मनोज सिंह भागा था. मनोज पर एक दर्जन से अधिक केस दर्ज है, इसमें हत्‍या, जबरन वसूली और रेप जैसे गंभीर आरोप शामिल हैं.

बीजेपी के सभी पदों से हटा दिया गया

इस बीच बीजेपी हाईकमान ने भी नारायण भदौरिया पर कार्रवाई की है. नारायण भदौरिया को बीजेपी के सभी पदों से हटा दिया गया है. भदौरिया कानपुर के बीजेपी नेता हैं और शहर के पार्टी संगठन में भी पद संभाल रहे हैं.अब मामला दर्ज कर भदौरिया और उसके साथियों की तलाश में पुलिस की दबिश जारी है.

कानपुर पुलिस ने की ये अपील

कानपुर पुलिस का कहना है कि वांछित व इनामिया अपराधी मनोज को पुलिस अभिरक्षा से छुड़ाए जाने के मामले में पुलिस को कई वीडियो मिले, ज़िनमें से सात आरोपियों की पहचान कर ली गई है. बाकी आरोपियों की तस्वीर जारी की जा रही है, अगर किसी को इनके बारे में कोई जानकारी हो तो पुलिस को बता सकते हैं.


क्या है पूरा मामला

नौबस्ता थाना क्षेत्र के उस्मानपुर में भाजपा दक्षिण जिला मंत्री नारायण सिंह भदौरिया का जन्मदिन एक निजी गेस्ट हाउस में मनाया जा रहा था. जन्मदिन के कार्यक्रम में शहर के विभिन्न थानों में गंभीर धाराओ में वांछित अपराधी मनोज सिंह भी पहुंचा था, जिसकी सूचना पुलिस को लगी. नौबस्ता थाने की पुलिस टीम भाजपा नेता के कार्यक्रम में पहुंची. कानपुर पुलिस हत्या के प्रयास में वांछित चल रहे हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह को गिरफ्तार कर अपने साथ ले जाने लगी. इसकी सूचना जैसे ही नारायण भदौरिया को लगी तो वो अपने सामर्थको के साथ सड़क पर पहुंचे और पुलिस की जीप को चारों ओर से घेर लिया और हिस्ट्रीशीटर को छोड़ने की बात करने लगे. पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर को छोड़ने से मना कर दिया.

इसके बाद भाजपा नेता और उसके समर्थक भड़क गए और पुलिस से झड़प पर उतारू हो गए. इसी बीच कुछ ने जीप में बैठे हिस्ट्रीशीटर को जीप से उतारकर भगा दिया. इस दौरान पुलिस भाजपा नेताओं के सामने पूरी तरह से बेबस नजर आई. हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह पर हत्या, हत्या के प्रयास, लूट, बलात्कार जैसी गंभीर धाराओं में 34 मुकदमे दर्ज हैं.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it