Begin typing your search...

रिश्तों का क़त्ल ? संपत्ति की हवस में गोद ली हुई बेटी ने मां-बाप का किया बेरहमी से कत्ल? रूह कंपाने वाली हैवानियत

कानपुर में डबल मर्डर से फैली थी सनसनी, रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी और पत्नी की निर्मम हत्या का पुलिस ने किया खुलासा..

रिश्तों का क़त्ल ? संपत्ति की हवस में गोद ली हुई बेटी ने मां-बाप का किया बेरहमी से कत्ल? रूह कंपाने वाली हैवानियत
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Kanpur Double Murder : धन दौलत की बढ़ती हवस आदमी को क्या क्या करने पर मजबूर कर देती और इंसान माल की मुहब्बत में कैसे कैसे जुर्म अंजाम देता है जिससे रुह कांप जाती है। माल की मुहब्बत में गिरफतार होकर कर इंसान रिश्तों तक का कत्ल कर देता है और दुनिया को ऐसी मिसाल दे देता है जिससे लोग एक दूसरे पर यकीन ही करना बंद कर दें। जी हां एक ऐसा ही मामला उत्तर प्रदेश के जनपद कानपुर से आया जिसे सुनकर आपकी रूह कांप जाएगी।

कानपुर में एक दंपति ने एक बेटी को सहारा देने के लिए उसे गोद ले लिया और अपने बेटे के बराबर उस बेटी को प्यार दिया और पढ़ाया-लिखाया। लेकिन गोद ली हुई बेटी ने संपत्ति के लालच में अपने ही माता-पिता को मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने जब घटना का खुलासा किया तो जिसने भी सुना, वह दंग रह गया और सिर्फ यही कहते हुए नजर आया कि इंसान अब भरोसा करे तो किस पर करे?

कानपुर के बर्रा 2 में रहने वाले फील्ड गन फैक्टरी से सेवानिवृत्त 65 वर्षीय मुन्नालाल उत्तम करीब 25 वर्ष से पत्नी राजदेवी, बेटे विपिन और गोद ली हुई बेटी आकांक्षा के साथ रहते थे। मुन्नालाल के कोई बेटी नहीं थी इसीलिए उन्होंने अपने भाई रामप्रकाश की बेटी आकांक्षा को गोद ले लिया था।

रोज की तरह सोमवार की देर रात पूरा परिवार एकसाथ बैठा हुआ था और बातचीत कर रहा था। इसी दौरान आकांक्षा पूरे परिवार के लिए अनार का ज्यूस बनाकर लाई और उसने सभी को पिलाया। लेकिन उसके भाई विपिन ने थोड़ा-सा ज्यूस पीने के बाद उसे छोड़ दिया और अपने कमरे में सोने के लिए चला गया।

मंगलवार की भोर अचानक आकांक्षा रोती हुई भाई विपिन के कमरे में पहुंची और उसने चिल्ला-चिल्लाकर कहना शुरू किया कि भैया, मम्मी-पापा को किसी ने मार दिया है। यह सुन व घबराकर विपिन नीचे आया और उसने पूरे मामले की जानकारी पुलिस को दी। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच-पड़ताल शुरू की तो पहले हत्या का पूरा शक भाई विपिन के सालों की तरफ जा रहा था जिसके चलते विपिन ने पारिवारिक विवाद में अपने सालों सुरेन्द्र और मयंक उत्तम को ही नामजद भी करा दिया।

पुलिस की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही थी, पुलिस को विपिन की बातों पर विश्वास तो हो रहा था लेकिन कहीं-न-कहीं उसकी बहन आकांक्षा की बातों में बहुत-सी बातें छुपी हुई नजर आ रही थीं। इसके चलते पुलिस ने आकांक्षा को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की तो पहले आकांक्षा पुलिस को गुमराह करती रही लेकिन आखिरकार वह टूट गई और उसने पूरा घटनाक्रम पुलिस को बता दिया।

आकांक्षा ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि घर में जब भी संपत्ति की बात चलती थी तो पिता मेरी शादी करने की बात कहते थे और सारी संपत्ति भाई को देने की बात करते रहते थे जिसके चलते वह नाराज चल रही थी और वह पिछले 6 महीने से पापा-मम्मी के साथ भाई को मौत के घाट उतारना चाहती थी। इसी के चलते उसने अपने प्रेमी रोहित के साथ मिलकर पूरा षड्यंत्र रचा था और सही मौके का इंतजार किया।

आकांक्षा को वह मौका सोमवार को मिल गया और उसने ज्यूस में नशीला पदार्थ मिलाकर पापा-मम्मी सहित भाई को दे दिया जिसके चलते पापा-मम्मी बेहोश हो गए लेकिन भाई अपने कमरे में चला गया। इसके बाद उसने कमरे की कुंडल डाली जिसके चलते पापा-मम्मी को तो उसने प्रेमी के साथ मिलकर मौत के घाट उतार दिया लेकिन भाई विपिन बच गया। उसने पुलिस को यह भी बताया कि उसने जान-बूझकर अपने भाई को बताया था कि उसने जाते हुए उनके साले को देखा है जिसके चलते विपिन ने तहरीर में अपने सालों का नाम नामजद किया था।

पुलिस को किया गुमराह ?

पहले कोमल ने पुलिस को गुमराह करने के लिए पूछताछ के दौरान बताया था,''पापा बाहर के कमरे में सो रहे थे. मैं बीच वाले कमरे में मां के साथ सो रही थी. भाई पहली मंजिल पर सो रहा था. हत्या कब हुई यह पता नहीं चल पाया है. आवाज सुनकर आंख खुली तो देखा कि तीन नकाबपोश घर से भाग रहे हैं. हालाकि पुलिस ने सुबह ही इस बात की आशंका जाहिर कर दी थी कि हत्या करने वाले दंपती को पहले से ही जानते थे.

जांच में जुटी पुलिस ने 10 घंटे में हत्याकांड का खुलासा कर दिया. पुलिस का दावा है कि बुजुर्ग दंपती की हत्या उनकी ही बेटी ने की है. इस वारदात को अनजाम देने के लिए उसने अपने प्रेमी की मदद ली. पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस ने बताया कि दंपती प्रेमी से उसकी शादी का विरोध कर रहे थे. साथ ही पिता के नाम करोड़ों की संपत्ति थी, जिसे बेटी और उसका प्रेमी इसे हथियाना चाहते थे, इसलिए बेटी ने माता-पिता की हत्या कर दी.

पुलिस आयुक्त विजय सिंह मीना ने बताया कि इस दोहरे हत्याकांड का पर्दाफाश हो गया है। संपत्ति के लालच में बेटी ने वारदात को अंजाम दिया था और वह अपने भाई को भी मार डालना चाहती थी लेकिन उसे मारने में वह सफल नहीं हो सकी। अपने माता-पिता को मौत के घाट उतारने के लिए बेटी ने पूरे षड्यंत्र में अपने प्रेमी का भी सहारा लिया था और उसकी मदद से पूरे घटनाक्रम को अंजाम दिया गया है।

पुलिस को क्यों गहराया शक?

जिस घर में वारदात हुई वह महज 47 वर्ग मीटर में बना है. पति-पत्नी की गर्दन काटकर हत्या कर दी गई, लेकिन घर में मौजूद बेटे-बेटी को इसका पता नहीं चला, पुलिस को इस बात विश्वास नहीं हो रहा था. बेटी मां के साथ सोई थी. वह कब उठी और कब अपने पति के पास गई? जब नकाबपोश हत्यारे घर में घुसे, तब उसने शोर क्यों नहीं किया. कोमल पुलिस को इन सवालों का जवाब नहीं दे पायी.

क्या था मामला? : कानपुर के थाना बर्रा के अंतर्गत गला रेतकर पति-पत्नी की निर्मम हत्या कर दी गई थी और हत्या करके नकाबपोश बदमाश मौके से फरार हो गए थे। घर में मौजूद बेटी ने भाई को सूचना देते हुए तत्काल घटना की जानकारी पुलिस को दी थी। सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस कमिश्नर, एडीसीपी साउथ, डीसीपी क्राइम, फोरेंसिक टीम और डॉग स्क्वॉड जांच करने पहुंचे थे। पूछताछ के दौरान परिवार के बहुत करीबी एक व्यक्ति को शक के आधार पर पुलिस ने हिरासत में भी लिया था और घटना के खुलासे के लिए पुलिस ने दो टीमें भी लगाई थीं।

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it