Begin typing your search...

छोटा राजन और मुन्ना बजरंगी के नाम पर डाक टिकिट जारी, मचा हडकम्प

मुन्ना बजरंगी और छोटा राजन के 5-5 रुपए के 12-12 टिकट छाप दिए गए हैं.

छोटा राजन और मुन्ना बजरंगी के नाम पर डाक टिकिट जारी, मचा हडकम्प
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

उत्तरप्रदेश के कानपुर में छोटा राजन और मुन्ना बजरंगी की डाक टिकट छाप दी गई हैं. ये वाकया कानपुर के प्रधान डाकघर का है जहां मुन्ना बजरंगी और छोटा राजन के 5-5 रुपए के 12-12 टिकट छाप दिए गए हैं. इस बात की खबर मीडिया में आने के बाद विभाग में हडकंप मच गया है कि ऐसी गलती कैसे हो गई कि बिना किसी जांच-पड़ताल के ही इतने खूंखार अपराधियों की तस्वीरें अपने स्टैम्प पर छाप दी गई हैं.

दरअसल भारतीय डाक विभाग द्वारा एक योजना चलाई जा रही है जिसका नाम है 'माई स्टैम्प स्कीम''. जिसके अंदर कोई भी नागरिक अपनी या अपने किसी चहेते की तस्वीरें डाक टिकट पर छपवा सकता है. साल 2017 में मोदी सरकार ने इस स्कीम की शुरुआत की थी. indiapost.gov.in, वेबसाइट के अनुसार इस योजना के अंदर कोई भी नागरिक 300 रुपए देकर 12 डाक टिकटें छपवा सकता है. इस तरह एक डाक टिकट की कीमत 5 रुपए है. कोई भी संस्थान, कंपनी, एनजीओ जहां तक कि कोई सामान्य नागरिक भी डाक विभाग को पैसे देकर टिकटें छपवा सकता है.

मीडिया से बातचीत में कानपुर के प्रधान डाकघर के पोस्टमास्टर जनरल विनोद कुमार वर्मा ने कहा कि ''भले ही माई स्टांप योजना के तहत कोई व्यक्ति आवश्यक दस्तावेज देकर अपनी तस्वीर के साथ डाक टिकट छपवा सकता है, लेकिन व्यक्ति को इस काम के लिए स्वयं डाकघर आना होगा, साथ ही आवश्यक दस्तावेज भी जमा करने होंगे. उसके बाद डाक विभाग के वेबकैम के माध्यम से उस आदमी का फोटो लिया जाता है. इस प्रक्रिया को पूरी करने के बाद ही डाक टिकट जारी किया जाता है.''

मुन्ना बजरंगी और छोटा राजन के स्टाम्प टिकट छपने पर सफाई देते हुए वर्मा ने कहा कि ''मीडिया से जुड़ा हुआ कोई आदमी आया था उसने मुन्ना बजरंगी और छोटा राजन के नाम से दो फॉर्म भर दिए. उसने अपना पहचान पत्र जमा करवाते हुए उन दोनों के फोटो जमा करवा दिए. जब कर्मचारी ने उस आदमी से पूछा तो उसने कहा कि वह उन दोनों को जानता है. इस बात से संतुष्ट होकर कर्मचारी ने स्टैम्प छाप दिए और कोई जांच नहीं की.''

फ़िलहाल पोस्टमास्टर-जनरल ने एक क्लर्क, रजनीश बाबू को उनकी लापरवाही के लिए निलंबित कर दिया है, अन्य छह कर्मचारियों के खिलाफ भी एक अतिरिक्त जांच बिठा दी गई है.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it