Begin typing your search...

महिला जेई ने पांचवी मंजिल से कूदकर की आत्महत्या, मचा हडकंप

महिला जेई ने पांचवी मंजिल से कूदकर की आत्महत्या, मचा हडकंप
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

महिला जेई ने 23-3-21 मंगलवार को 60 साइंटिस्ट हॉस्टल की 5 मंजिला से छलांग लगाकर आत्महत्या कर ली। सूचना मिलते ही घटना स्थल पर पहुंची पुलिस पुलिस ने फारेसिन्क टीम को बुलाकर साक्ष्य जुटाए। महिला के शव के पास से एक्यूसाइड नोट बरामद मौके पर पहुंचचे मायके वाले ने महिला के पति व दमाद पर दहेज के लिए प्रताप करने और बेटी का जन्म होने पर झगड़ा करने का आरोप लगाया।

क्या है पूरा मामला

आइआइटी नानकारी निवासी परमात्मा शरण त्रिपाठी मुख्य डाकघर में वरिष्ठ सहायक के पद पर कार्यरत हैं। परिवार में पत्नी गुड्डी सहित तीन बेटे और एक बेटा है। उनकी बड़ी बेटी 30 वर्षीय रजनी डीएमएसआरडीई में जेई थी। उनके पास 60 साइंटिस्ट हॉस्टल के देखरेख की जिम्मेदारी भी थी। पिता ने बताया कि मई 2019 को उन्होंने पासैनी निवासी एक निजी कंपनी में इंजीनियर शिवम पांडेय से बेटी की शादी की थी। शादी के कुछ महीनों बाद से ससुरालीजनों द्वारा दहेज के लिए बेटी को प्रताड़ित किया जाने लगा। इससे परेशान होकर वह मायके में आकर रहने लगी थी, लेकिन लॉकडाउन लगने पर कीमताद भी उनके घर पर आकर रहने लगा। आरोप है कि 26 फरवरी को नातिन पैदा होने के बाद उसने बेटी से झगड़ा करने लगा। लगभग एक सप्ताह पहले वह बेटी और घरवालों से मारपीट कर अपने घर चला गया। इस घटना के बाद से रजनी मानसिक तनाव में जा रहा था। मंगलवार सुबह बेटी हातिम का बिल पास करवाने की बात कहकर कार से ड्राइवर के साथ आफिस के लिए निकली। जिसके बाद शाम को उन्हें जानकारी मिली कि बेटी ने हॉस्टल के पीछे के हिस्से में पांचवी मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली है।

पिता से की आखिरी बार बात पिता ने बताया कि सुबह करीब 11 बजे उनकी बेटी से फोन पर बात हुई थी। इस दौरान उन्होंने बताया था कि वह हातिम की बिल लगाने वाली आफिस जा रही है। इसके बाद उसने यह कदम उठाया।

बैग में मिलीं फिनाइल व नीद की गोलियां: मौके पर पहुंची फोरेसिंक टीम को महिला के बैग से एक फिनाइल की बोतल, नींद की गोलियां भी मिली हैं। फिनाइल की बोतल खुली जरूर थी, लेकिन वह भरी हुई थी। जब नींद की 15 पंक्तियों में से छह गोलियां नहीं थीं, तो यह आशंका है कि वे कूदने से पहले नींद की गोलियां भी पूरी कर लेंगे।

पिता ने बताया कि बेटी की शादी के बाद से ही ससुरालीजन दहेज की मांग को लेकर प्रताड़ित करते थे जिसके कारण वह मायके में रहती थी। आरोप है कि दामाद पुत्र की चाहत रखता था। नातिन होने के बाद से वह लगातार झगड़ रही थी। नातिन के इंफेक्शन होने के कारण उसे एनआईसीयू में रखने पर वह इलाज नहीं कर रही और उसकी मरने जाने की बात कह रही थी।) एक सप्ताह पहले दामाद बेटी और घर वालों से झगड़ा करके अपने घर चला गया था, जिससे बेटी डिप्रेशन में थी।

घर से आत्महत्या करने की सोच कर निकली थी: रजनी के बैग में पुलिस को फिनाइल व नींद की गोलियां भी है जिससे यह लग रहा है कि वह घर से कुसाइड करने की बात सोचकर निकली थी। छुट्टी होने और हाता का बिल पास कराने के लिए घर से निकलने के बाद वह हॉस्टल पहुंच गई।

पिता ने बताया कि 26 फरवरी को रजनी ने बेटी को जन्म दिया था। उनके घर में इस बात को लेकर खुशी थी, जबकि दामाद और ससुरालियों में गहरी निराशा थी।

वहीं थाना प्रभारी दधिबल तिवारी ने बताया कि महिला के पास से एक ओराइड नोट मिला है। जिसमें ससुरालीजनों द्वारा दहेज की मांग को लेकर प्रताप करने और बेटी होने के कारण पति से परेशान होकर आत्महत्या करने की बात लिखी है। महिला के पति को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it