Begin typing your search...

कासगंज में सिपाही की हत्या के आरोपी को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया

एसपी मनोज सोनकर ने मुठभेड़ की जानकारी दी.

कासगंज में सिपाही की हत्या के आरोपी को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

कासगंज में देर रात हिस्ट्रीशीटर मोती के भाई एलगार को पुलिस मुठभेड़ में मार गिराया है. यह मुठभेड़ पुलिस जब आरोपियों की तलाश में जुटी हुई थी तब काली नदी की तलहटी में हुई है. चूँकि इस गाँव की चाहरदीवारी बड़ी अजीबो गरीब है. जिसके चलते यहाँ शराब माफिया के हौसले बुलंद रहते है.

मिली जानकारी के मुताबिक धीमर नगला गाँव में हिस्ट्रीशीटर को नोटिस थमाने गई पुलिस पार्टी पर हमला बोल दिया. जिसमें एक सिपाही देवेंद्र कुमार की घटना स्थल पर मौत हो गई जबकि दरोगा अशोक कुमार की हालत गंभीर बनी हुई है. चूँकि यह घटना देर रात की है लिहाजा पुलिस इस मामले के आरोपियों को तलाशने में जुटी हुई थी उसी दौरान पुलिस की आरोपी एल्गार से मुठभेड़ हो गई. एलगर ने भी पुलिस पार्टी पर फायरिंग की जबाब में की गई फायरिंग में एल्गार मारा गया . एलगार हिस्ट्रीशीटर मोती का बड़ा भाई है जो इस घटना में शामिल था.

नगला धीमर गाँव काली नदी की तलहटी में बसा हुआ है. चूँकि काली नदी के उस तरफ जनपद एटा की सीमा लगती है. जिसका थाना बागबालाउस तरफ लगता है. जब भी पुलिस पार्टी यहाँ दबिश देती है ये अक्सर भीषण ठंड में भी नदी में कूदकर उस तरफ निकल जाते है . इसमें कई बार दोनों जिलों की पुलिस ने भी सयुक्त कार्यवाही की लेकिन ये शारब माफिया जब भी मौका मिलता है अवैध शराब का निर्माण करने से नहीं चूकते है.

पुलिस से मिली जानकारी

जनपद के थाना सिढपुरा पर तैनात उनि श्री अशोक कुमार व आरक्षी 72 देवेन्द्र सिंह वांछित अभियुक्त की तलाश हेतु क्षेत्र में गये हुए थे, तभी मुखबिर द्वारा सूचना दी गई कि ग्राम नगला धीमर कटरी में कुछ लोग कच्ची शराब की भट्टी चलाकर अवैध शराब का बना रहे हैं। सूचना के आधार पर उक्त दोनों पुलिस कर्मियों द्वारा दबिश दी तो पाया कि नगला धीमर की कटरी में मोती पुत्र हुब्बलाल, एलकार पुत्र हुब्बलाल व 5-6 अन्य लोग शराब की भट्टी चलाकर अवैध शराब का निर्माण कर रहे हैं। उक्त अभियुक्त मोती एवं उसका भाई ऐहलकार तथा अन्य साथियों द्वारा पुलिस को देखते ही चारों तरफ से घेरा बनाकर जान से मारने की नीयत से पुलिसकर्मियों पर अवैध तमन्चों से फायर करना शुरु कर दिया एवं नजदीक आते ही लाठी डन्डों एवं भालों से जान से मारने की नीयत से हमला कर दिया जिससे उ0नि0 श्री अशोक कुमार गम्भीर रूप से घायल हो गए एवं आरक्षी देवेन्द्र कुमार की मृत्यु हो गई। अभियुक्तगण उपनिरीक्षक की सरकारी पिस्टल एवं कारतूस भी लूट कर ले गए। घायल उ0नि0 अशोक कुमार को उपचार हेतु अस्पताल में भर्ती कराया गया।

उक्त सनसनीखेज घटना को पुलिस अधीक्षक कासगंज द्वारा अत्यन्त गंभीरता से लेकर तत्काल थाना सिढपुरा पर अभियोग संख्या 28/21 धारा 147, 148, 149, 353, 333, 307, 364, 397, 302, 396 भादवि बनाम अभियुक्त मोती व एलकार पुत्रगण हुब्बलाल एवं 5-6 अज्ञात व्यक्तियों के विरुद्ध पंजीकृत कर अभियुक्तों की गिरफ्तारी हेतु अपर पुलिस अधीक्षक कासगंज के पर्यवेक्षण एवं क्षेत्राधिकारी पटियाली के नेतृत्व में सर्विलांस/एसओजी, थाना सिढपुरा एवं थाना सि0वैश्य की 3 टीमें गठित की गई। गठित पुलिस टीमों द्वारा अभियुक्तों की तलाश में घटनास्थल के आस-पास के खेतों में लगातार काम्बिंग की जी रही थी। काम्बिंग के दौरान पुलिस टीम को मुखबिर द्वारा सूचना प्राप्त हुई कि घटना में संलिप्त अभियुक्तगण नगला भिखारी के जंगलों में काली नदी के पास छिपे हुए हैं। पुलिस टीम काम्बिंग करते हुए नगला भिखारी के जंगलों में पहुंची तो वहां पर छिपे अभियुक्तगण द्वारा अवैध तमन्चों से पुलिस टीम पर जान से मारने की नीयत से फायरिंग की गई।

पुलिस टीम द्वारा फायरिंग से बचते बचाते हुए अन्य कोई उपाय न मिलने पर अपनी जान बचाने के उद्देश्य से अभियुक्तगण पर जवाबी कार्रवाई/फायर किया गया जिससे 1 अभियुक्त एलकार पुत्र हुब्बलाल निवासी नगला धीमर थाना सिढपुरा जनपद कासगंज को गोली लगी जिससे वह घायल हो गया एवं अन्य अभियुक्तगण अन्धेरे का फायदा उठाकर फरार होने में सफल रहे। घायल अभियुक्त एलकार उपरोक्त को तत्काल पुलिस वाहन में इलाज हेतु सी0एच0सी0 सिढ़पुरा ले जाया गया जहां पर चिकित्सकों द्वारा उसे मृत घोषित किया गया। मृतक के शव के पास से 1 तमन्चा 315 बोर बरामद किये गये हैं। मृतक के शव का पंचायतनामा भरवाकर पोस्टमार्टम हेतु भिजवाया गया है। फरार अन्य अभियुक्तों की तलाश में पुलिस द्वारा लगातार काम्बिंग कर दबिशें दी जा रही हैं । शीघ्र ही गिरफ्तारी सुनिश्चित की जायेगी।

एसपी मनोज सोनकर ने बताया


Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it