Begin typing your search...

95 करोड़ की बेशकीमती अष्टधातु की दो मूर्तियों के साथ 10 गिरफ्तार, जानिए- कैसे पुलिस की गिरफ्त में फंसे चोर

केरल के एक कारोबारी से 25 से 30 करोड़ रुपए में मूर्तियों को बेचने की योजना चल रही थी।

95 करोड़ की बेशकीमती अष्टधातु की दो मूर्तियों के साथ 10 गिरफ्तार, जानिए- कैसे पुलिस की गिरफ्त में फंसे चोर
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

यूपी के कौशांबी में महेवाघाट पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने 10 अंतर्जनपदीय चोरों को अष्टधातु की मूर्ति के साथ गिरफ्तार किया है। मूर्तियों का वजन 108 किलोग्राम बताया जा रहा है। एक मूर्ति 5 हिस्से में खंडित मिली। जबकि दूसरी मूर्ति सही अवस्था में है। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में मूर्तियों की कीमत लगभग 95 करोड़ आंकी जा रही है।

केरल के एक कारोबारी से 25 से 30 करोड़ रुपए में मूर्तियों को बेचने की योजना चल रही थी। मूर्तियों को लगभग 15 वर्ष पहले बांदा जनपद के किसी गांव के मंदिर से चोरी किया था। चोरी करने बाद मूर्तियों को कई वर्ष तक चित्रकूट में रैपुरा गांव में जमीन में गाड़ के रखा गया था। चोरी की घटना में शामिल दो लोगों की मौत भी हो चुकी है। घटना में शामिल एक चोर बांदा का 3 कौशांबी के एवं 6 चित्रकूट जनपद के रहने वाले हैं।

एसपी हेमराज मीना ने प्रेसवार्ता कर बताया कि महेवाघाट पुलिस ने यमुना ब्रिज की तरफ से आ रहे 10 लोगों को गिरफ्तार किया था। उनके कब्जे से ठाकुर जी महाराज की दो अष्टधातु की मूर्ति बरामद किया गया। दोनों मूर्तियों का वजन 1 कुंटल 8 किलो ग्राम है। अंतरराष्ट्रीय मार्केट में दोनों मूर्तियों की कीमत लगभग 95 करोड़ बताई जा रही है।


गिरफ्तार किए गए लोगों ने बताया कि करीब 10 से 15 वर्ष पहले बांदा जिले के किसी एक गांव से मूर्ति को चोरी किया गया था। बिक्री के लिए एक मूर्ति को खंडित कर दिया गया था, जिसके टुकड़ों को देश के कई हिस्सों में भेजा भी गया था। असम के एक कारोबारी से 25 करोड़ में मूर्तियों की कीमत भी लग गई थी।

इंस्पेक्टर महेवाघाट रोशन लाल ने बताया कि गिरफ्तार बदमाशों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। उन्होंने यह मूर्ति बांदा जिले के बबेरू थाना क्षेत्र के अछाह गांव के एक मंदिर से करीब 15 वर्ष पहले चोरी कर छिपा दी थी। पिछले 3 साल से मूर्तियों को बच बचाकर महेवाघाट इलाके में लाए थे। बेचने के लिए वह फतेहपुर के एक व्यक्ति के जरिये केरल के बड़े व्यापारी से 50 करोड़ रुपये मूर्ति के बदले मांग रहे थे। व्यापारी 25 करोड़ रुपये देने को तैयार था। वह कीमत बढ़ाने का इन्तजार कर रहे थे, तभी पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। पुलिस ने बदमाशों को जेल भेज दिया है।

नावेद खान, कौशाम्बी

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it