Top
Begin typing your search...

परिवार की आपसी कलह के चलते बसपा अब गठबंधन को आगे नहीं बढ़ाएगी - मायावती

परिवार में जारी आपसी घमासान से परिस्थितियां बदली है इसके साथ-साथ बीएसपी के साथ हुआ गठबन्धन भी इससे प्रभावित होकर अछूता नहीं रहा है जो गठबन्धन की जन आकांक्षाओं के विपरीत है।

परिवार की आपसी कलह के चलते बसपा अब गठबंधन को आगे नहीं बढ़ाएगी -  मायावती
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ, 4 फरवरी, 2019: आगामी लोकसभा आमचुनाव की तैयारियों की राज्यवार समीक्षा के क्रम में बसपा सुप्रीमों मायावती ने आज हरियाणा राज्य में पार्टी की संगठन व चुनावी तैयारियों की गहन समीक्षा की, और आगे की रणनीति बनाकर उस पर प्रभावी अमल के लिये पार्टी के वरिष्ठ जिम्मेदार पदाधिकारियों को जरुरी दिशा-निर्देंश दिया।

राज्य स्तर से लेकर विधानसभा स्तर के जिम्मेदार लोगों की यहाँ पार्टी के सेन्ट्रल कार्यालय में आयोजित इस बैठक में खासकर जींद विधानसभा उपचुनाव परिणाम के साथ-साथ इण्डियन नेशनल लोकदल में आपसी खींचतान व टकराव आदि के फलस्वरुप हरियाणा की राजनीति में हुये परिवर्तन तथा सम्भावित राजनीति पर सभी स्तर के लोगो की राय आँकी गयी तथा यह पाया गया कि चौटाला परिवार में जारी आपसी घमासान से परिस्थितियां बदली है इसके साथ-साथ बीएसपी का इण्डियन नेशनल लोकदल के साथ हुआ गठबन्धन भी इससे प्रभावित होकर अछूता नहीं रहा है जो गठबन्धन की जन आकांक्षाओं के विपरीत है। साथ ही, इससे बी.एस.पी. व इसके मूवमेन्ट को अब यहां लोकसभा व विधानसभा आमचुनाव में भी नुकसान हो सकता है, जिससे बचने के लिये पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व को अधिकृत किया गया कि वे वर्तमान इस नई परिस्थिति के मद्देनजर रखते हुये आगे के लिये उचित फैसला लें।

और फिर बैठक में विचार-विमर्श के बाद आमराय को ध्यान रखकर बी.एस.पी. प्रमुख सुश्री मायावती जी ने फैसला लिया कि इण्डियन नेशनल लोकदल के दो हिस्सों में बंट जाने का प्रभाव जीन्द उपचुनाव में भी पड़ा और इनको अपनी सीट गवानी पड़ी है और वैसे भी अभी इनका पारिवारिक तकरार व टकराव लगातार बढ़ता ही जा रहा है, जिस कारण बीएसपी के साथ उनका गठबन्धन आगे बढ़ने के बजाय अब नकारात्मकता में ही ज्यादा उलझ गया है

इसलिए अब बीएसपी चौटाला परिवार के एक होने पर ही, इनके साथ समझौता करके चुनाव लड़ने पर ही विचार कर रही है वरना फिर हमारी पार्टी इस मामलें में पुर्नविचार करने के लिए मजबूर होगी।

मायावती जी द्वारा ऐसे में पार्टी के निचले स्तर तक के भी पदाधिकारियों की बैठक बुलाकर जो, उनसे काफी गम्भीरता से विचार-विमर्श किया है, तो इसका पूरे तहेदिल से स्वागत करते हुये हरियाणा प्रदेश के बीएसपी के जिम्मेदार लोगांे ने कहा कि हरियाणा में बी.एस.पी. का जनाधार अब पहले से काॅफी बेहतर व मजबूत हुआ है और आगामी लोकसभा व विधानसभा के आमचुनाव में पार्टी अपनी पूरी मेहनत करके अच्छा प्रदर्शन जरुर करेंगी। जिसकी हमें पूरी-पूरी उम्मीद भी है।

Special Coverage News
Next Story
Share it