Top
Begin typing your search...

किसान और सरदार को अपने फायदे के लिए मोहरा बनाना चाहते हैं विपक्षी दल, गुमराह कर रहे टिकैत- रामबाबू द्विवेदी

किसान और सरदार को अपने फायदे के लिए मोहरा बनाना चाहते हैं विपक्षी दल, गुमराह कर रहे टिकैत- रामबाबू द्विवेदी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किसी कानून वापसी की घोषणा किए जाने के बाद केंद्रीय कैबिनेट ने भी तीनों कृषि कानूनों की वापसी पर मुहर लगा दी है और संसद सत्र के पहले दिन ही वापसी की औपचारिकता पूर्ण की जाएगी इसके साथ ही पूरा देश यह देख रहा है कि कई बार तीनों कृषि कानून वापस होने पर अपना प्रदर्शन समाप्त करने का वचन दे चुके किसान संगठन अपना वादा निभाते हैं या नहीं फिलहाल भाकियू के नेता राकेश टिकैत और उनके सहयोगी अपने वादे पर खरे उतरते नहीं दिखाई पड़ रहेl

भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के वरिष्ठ नेता रामबाबू द्विवेदी ने यह बयान जारी किया है, जिस तरह प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद भी वह अपनी नई मांगों की फेहरिस्त के साथ आंदोलन लंबा चलाने की बात कर रहे हैं उससे यह स्पष्ट हो रहा है कि पूरा कथित किसान आंदोलन शुरू से ही राजनैतिक एजेंडा का शिकार रहा है।

रामबाबू द्विवेदी ने कहा है कि इस अराजक आंदोलन की वजह से देश के कई हिस्सों में हिंसा हुई कई लोग मारे भी गए सुरक्षाकर्मी भी बड़ी संख्या में घायल हुए और जब यह तीनों कानून वापस से लिए गए हैं तब आंदोलन वापस न लेकर राकेश टिकैत और उनके साथी जनता को यही संदेश दे रहे हैं कि किसानों को अपने राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है उन्हें मोहरा बनाया जा रहा है आंदोलन का उद्देश्य किसानों का भला नहीं किसानों की आर्थिक तरक्की को रोकना और विपक्षी दलों के इशारे पर बीजेपी को राजनीतिक नुकसान पहुंचाना है।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it