Top
Begin typing your search...

कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया मोड़, दाऊद कनेक्शन सामने आया ये है कोड वर्ड!

कमलेश तिवारी की बीते 18 अक्टूबर को लखनऊ (Lucknow) स्थित उनके घर में घुसकर हत्या कर दी गई थी. दो आरोपियों अशफाक और मोईनुद्दीन ने गला रेतकर और गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी.

कमलेश तिवारी हत्याकांड में नया मोड़, दाऊद कनेक्शन सामने आया ये है कोड वर्ड!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ. हिंदू समाज पार्टी (Hindu Samaj Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलेश तिवारी (Kamlesh Tiwari) हत्याकांड अब एक नया मोड़ ले रहा है. खबरों के मुताबिक जांच एजेंसियों (Investigating Agencies) के रडार पर एक ख़ास कोड वर्ड आया है जोकि अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) की 'डी कंपनी' (D Company) से जुड़ा हुआ माना जा रहा है. सूत्रों की माने तो हत्याकांड की जांच में जुटी एजेंसियां जल्द ही कोई बड़ा खुलासा कर सकती हैं.

सूत्रों के मुताबिक जांच एजेंसियों ने कुछ फोन कॉल इंटरस्पेक्ट किये हैं जिसमें प्रमोद नाम सामने आया है. माना जा रहा है कि प्रमोद नाम का शख्स असल में मुस्लिम समुदाय का है जो जांच एजेंसियों से बचने के लिए प्रमोद नाम का इस्तेमाल कर रहा है. वहीं ऐसा भी बताया जा रहा है कि प्रमोद नाम का यह शख्स देश के बाहर मौजूद है. इस मामले में अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक प्रमोद, मिडिल ईस्ट कंट्री में होने की आशंका जताई जा रही है. वहीं जांच एजेंसियों का दावा है कि वो जल्द ही प्रमोद नाम के कोड को डिकोड कर लेंगे और शख्स का असली नाम पता लगा लेंगे.

गला रेतकर और गोली मारकर हुई हत्या

बता दें कि कमलेश तिवारी की बीते 18 अक्टूबर को लखनऊ (Lucknow) स्थित उनके घर में घुसकर हत्या कर दी गई थी. दो आरोपियों अशफाक और मोईनुद्दीन ने गला रेतकर और गोली मारकर उनकी हत्या कर दी थी. कमलेश तिवारी की हत्या के बाद उनके परिजनों ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी. जिसमें उन्होंने आरोपियों को फांसी की सजा देने की मांग की थी. सीएम योगी ने परिजनों को 15 लाख रुपए की आर्थिक मदद और उनके लिए सीतापुर में आवास बनवाने की घोषणा की थी. साथ ही उन्हों ने भरोसा दिलाया था कि आरोपियों के खिलाफ फास्ट ट्रेक कोर्ट में सुनवाई करवाने की व्यवस्था कराने पर विचार किया जाएगा.

मुख्य आरोपी हो चुके हैं गिरफ्तार

गुजरात एटीएस की टीम ने मंगलवार को गुजरात-राजस्थीन बॉर्डर से फरार दो आरोपियों को गिरफ्तार किया था. इन दोनों के नाम अशफाक और मोइनुद्दीन हैं. एटीएस ने बताया था कि ये दोनों पाकिस्तान भागने की फिराक में थे. एटीएस के मुताबिक, दोनों आरोपियों की लगातार खबर मिल रही थी. लेकिन ये पकड़े जाने से बचने के लिए लगातार अपनी लोकेशन बदल रहे थे.

कमलेश पर 15 बार हुआ था चाकू से वार

उत्तर प्रदेश पुलिस ने कमलेश तिवारी हत्याकांड में इस्तेमाल चाकू को बरामद कर लिया था. कमलेश तिवारी की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में उन पर 15 बार चाकुओं से वार करने और एक गोली मारने की बात सामने आई थी. इस रिपोर्ट में गला रेतने के दो गहरे जख्म की भी बात कही गई थी. 15 बार चाकुओं से यह वार सिर्फ 10 सेंटीमीटर के भीतर जबड़े से लेकर छाती तक किए गए थे.

Special Coverage News
Next Story
Share it