Begin typing your search...

उत्तर प्रदेश सरकार 24X7 पेयजल आपूर्ति डी0एफ0टी0 के माध्यम से सुनिश्चित कराने के लिये प्रतिबद्ध - दुर्गाशंकर मिश्रा

मुख्य सचिव के समक्ष 24 घंटे जलापूर्ति के सम्बन्ध में प्रस्तुतिकरण

उत्तर प्रदेश सरकार 24X7 पेयजल आपूर्ति डी0एफ0टी0 के माध्यम से सुनिश्चित कराने के लिये प्रतिबद्ध - दुर्गाशंकर मिश्रा
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: प्रदेश के मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र के समक्ष 24 घंटे जलापूर्ति के सम्बन्ध में प्रस्तुतिकरण किया गया। बैठक को सम्बोधित करते हुये मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार 24X7 पेयजल आपूर्ति ड्रिंक फ्राम टैप (डी0एफ0टी0) के माध्यम से सुनिश्चित कराने के लिये प्रतिबद्ध है। इसके लिये कई परियोजनाओं पर कार्य किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत एक वर्ष के अंदर प्रदेश के कम से कम 75 वार्डों में (आगरा में 10 वार्ड, अयोध्या में 7 वार्ड, अन्य नगर निगमों के 58 वार्डों) 24X7 जलापूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित की जाये। आने वाले समय में अयोध्या में राम मन्दिर निर्माण के उपरान्त श्रद्धालुओं की संख्या में अप्रत्याशित वृद्धि होने की संभावना है। ऐसी स्थिति में वहां पर 24X7 जलापूर्ति का लाभ वहां के निवासियों के साथ-साथ आने वाले श्रद्धालुओं को भी मिलेगा। उन्होंने कहा कि 24X7 ड्रिंक फ्राम टैप (डी0एफ0टी0) का शीघ्र क्रियान्वयन कराया जाये तथा इसकी विशेषताओं की जानकारी लोगों को भी दी जाये।

प्रस्तुतिकरण में ड्रिंक फ्राम टैप (डी0एफ0टी0) की विशेषता का वर्णन करते हुये बताया गया कि डी0एफ0टी0 में कंज्यूमर टैप तक 24 घंटे तक जलापूर्ति सुनिश्चित की जाती है। तकनीकी रूप से वितरण प्रणाली में निरन्तर जल का दबाव रहने के फलस्वरूप वितरण प्रणाली की लाइनों में बाहरी कंटेमिनेशन नहीं जा पाता है और कंज्यूमर को निर्धारित गुणवत्ता का पेयजल निर्बाध रूप से उपलब्ध रहता है, जिससे वितरण प्रणाली पम्पिंग प्लांटस आदि की आयु में वृद्धि होती है और अनुरक्षण लागत में कमी आती है। इसके फलस्वरूप स्वास्थ्य लाभ एवं स्वास्थ्य पर होने वाले खर्चे में बचत होती है तथा पाइप नेटवर्क में बार-बार दबाव कम अधिक होने के कारण जो क्षरण होता है, वह कम हो जाता है।

उपभोक्ता को 24 घंटे जलापूर्ति सुनिश्चित होने के कारण उसके द्वारा जो जल का स्टोरेज किया जाता है एवं छत के ऊपर प्लास्टिक के टैंक तथा बूस्टर पम्प आदि का अधिष्ठापन किया जाता है उसकी आवश्यकता नहीं रह जाती है। जिसके कारण जलापूर्ति में विद्युत मद में बचत एवं टैंक इत्यादि के निर्माण एवं अनुरक्षण में आने वाली लागत में बचत होती है। 24X7 में जलापूर्ति में आवश्यक रूप से मीटरिंग होने के कारण उपभोक्ता कम पानी की खपत करता है, जिससे समग्र रूप से प्रति व्यक्ति पानी की खपत में गिरावट आती है और प्राकृतिक जलस्रोतों का दोहन भी कम होता है। इस प्रकार 24X7 जलापूर्ति से राष्ट्रीय जल संसाधनों, जन स्वास्थ्य, इंफ्रास्ट्रक्चर की अधिष्ठापना एवं अनुरक्षण लागत में कमी तथा उपभोक्ता संतुष्टि में निश्चित रूप से वृद्धि होती है तथा उपभोक्ता वाटर टैरिफ पे करने की इच्छाशक्ति में वृद्धि होती है।

बैठक में प्रमुख सचिव नगर विकास अमृत अभिजात सहित सम्बन्धित विभागों के वरिष्ठ अधिकारीगण आदि उपस्थित थे।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it