Begin typing your search...

तू मेरी हो न सकी किसी की होने नहीं दूंगा, गोली मारने के बाद तड़पती प्रेमिका से लिपटकर रोया, फिर खुद को मारी गोली

तू मेरी हो न सकी किसी की होने नहीं दूंगा, गोली मारने के बाद तड़पती प्रेमिका से लिपटकर रोया, फिर खुद को मारी गोली
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

मेरठ के परीक्षितगढ़ में आज सुबह हुई वारदात से इलाके में हड़कंप मच गया। यहां एक व्यक्ति ने पहले अपनी प्रेमिका की जान ले ली और फिर खुद भी मौत को गले लगा लिया। ग्राम दुर्वेशपुर निवासी महिला मिथिलेश पत्नी धीर सिंह आज सुबह 6:30 बजे गांव के बाहर कचरा डालने गई थी। इसी दौरान उसके गांव निवासी प्रेमी किरण पाल ने उसे गोली मार दी। गोली लगने पर महिला जान बचाकर भागी लेकिन प्रेमी ने उसे दूसरी गोली मार दी।

दूसरी गोली लगते ही प्रेमिका जमीन पर गिर पड़ी और तड़पने लगी। प्रेमी किरण पाल तड़पती प्रेमिका से लिपटकर रोता रहा और इसके बाद उसने खुद को भी गोली मारकर मौत को गले लगा लिया। चंद मिनटों में ही दोनों की मौत हो गई। दोनों के शव एक-दूसरे से लिपटे हुए मिले। आसपास के लोगों ने घटना की जानकारी लगते ही पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम को भेज दिया है।

तड़पती रही प्रेमिका, लिपटकर रोता रहा प्रेमी

मेरठ के दुर्वेशपुर गांव में शुक्रवार सुबह 45 साल के प्रेमी ने 44 साल की प्रेमिका मिथिलेश की हत्या कर दी। यह वारदात बीच गांव में हुई। महिला सुबह कचरा डालने निकली थी। इसी बीच महिला का प्रेमी किरण पाल तमंचा लेकर पहुंच गया, जहां आरोपी ने प्रेमिका की दो गोली मारकर हत्या कर दी।

मौत से पहले महिला तड़पती रही तो आरोपी खुद भी उससे लिपटकर रोने लगा। रोते-रोते ही आरोपी ने फिर से तमंचे को लोड किया और अपनी कनपटी पर भी गोली मारकर आत्महत्या कर ली। घटना से इलाके में सनसनी फैल गई।

पुलिस ने जताया यह अंदेशा

पुलिस ने अंदेशा जताया है कि दोनों एक-दूसरे से प्यार करते थे लेकिन अब महिला किरण पाल से पीछा छुड़ा रही थी, जिसके विरोध में किरण पाल ने उसे गोली मार दी और फिर खुद को भी गोली मार ली। दोनों के पांच बच्चे भी हैं। घटना से इलाके में हड़कंप मच गया। यह मामला गांव में चर्चा का विषय बना हुआ है। पुलिस हालांकि पूरे मामले की जांच कर रही है।

10 साल से थे नजदीकी संबंध

दुर्वेशपुर गांव निवासी धीर सिंह की पत्नी मिथिलेश (44) मजदूरी करती थी। दस साल पहले महिला की दोस्ती गांव निवासी किरण पाल (45) से हो गई। किरण पाल ठेकेदार था। दोनों के बीच दस साल से नजदीकी दोस्ती थी। इसको लेकर कई बार परिवार के लोगों को संदेह भी हुआ लेकिन बदनामी के डर से कोई बोलता नहीं था। दोनों एक ही बिरादरी से हैं। गांव में दोनों के घरों के बीच केवल 400 मीटर की दूरी है।

घटना की सूचना पर एसपी देहात केशव कुमार, सीओ सदर देहात पूनम सिरोही और परीक्षितगढ़ पुलिस भी पहुंची। सीओ पूनम सिरोही ने बताया की महिला की दो बेटियों की शादी हो चुकी है, जबकि महिला के प्रेमी के चार बच्चे हैं। मौके पर फाेरेंसिक टीम भी पहुंची। पुलिस ने दोनों के शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए।

गांव में प्रत्यक्षदर्शियों ने पुलिस को बताया कि महिला जब अपने घर से कचरा डालने निकली थी तभी पीछे से किरण पाल भी पहुंच गया और आवाज लगाई कि मिथिलेश तू मेरी तो नहीं हो सकी, किसी और की भी नहीं होने दूंगा...., आज जिंदगी भी खत्म समझ लेना। महिला कुछ समझ पाती इससे पहले ही किरण पाल ने अपनी प्रेमिका को गोली मार दी।

एक गोली लगने के बाद मिथिलेश जान बचाकर भागी। इसके बाद आरोपी ने उसे दूसरी गोली मारी लेकिन दूसरी गोली लगने के बाद वह जमीन पर गिर गई और तड़पने लगी। उसके बाद महिला से लिपटकर रोने लगा। आसपास के लोग पहुंचते उससे पहले ही किरण पाल ने खुद को भी गोली मार ली। चंद मिनटों में ही दोनों की मौत हो गई।

गांव में हत्या से फैली दहशत

इस सनसनीखेज वारदात के बारे में जिसने भी जाना और देखा वह हैरान रह गया। गांव के बाहरी छोर पर दोनों के शव एक दूसरे से लिपटे हुए मिले। दोनों के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं गांव में हत्या के बाद से दहशत फैल गई। पुलिस ने जांच पड़ताल के बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिए। पुलिस व फॉरेंसिक टीम मामले की छानबीन कर रही है।

साभार अमर उजाला

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it