Begin typing your search...

पुलवामा में मेरठ का लाल अजय कुमार शहीद, तीन साल का बेटा बोला पापा आ रहे है

आज हुए पुलवामा में शहीद अजय कुमार के एक तीन साल का बेटा है. उनके शहीद होने की खबर सुनकर परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा.

पुलवामा में मेरठ का लाल अजय कुमार शहीद, तीन साल का बेटा बोला पापा आ रहे है
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पुलवामा हमले के बाद रविवार रात चले सर्च ऑपरेशन में शहीद जवानो में मेरठ का लाल शहीद अजय कुमार शहीद हो गया है. मेरठ के जानी इलाके के गाँव बसा टीकरी के शहीद अजय कुमार, रहने वाले थे. बसा टीकरी मेरठ का अंतिम गाँव है . शहीद का गाँव बागपत और गाज़ियाबाद की सीमा पर है.


आज हुए पुलवामा में शहीद अजय कुमार के एक तीन साल का बेटा है. उनके शहीद होने की खबर सुनकर परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा. देर रात से आतंकियों से मुठभेड़ होते समय सवेरे एक मेजर समेत चार जवान शहीद हुए थे जिनमें एक जवान अजय कुमार भी है. अब शाम तक शव के आने की उम्मीद बताई जा रही है. फिलहाल गाँव में भारी भीड़ उमडना शुरू हो गई है. लोग पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे भी लगा रहे है.


जानकारी के मुताबिक मेरठ के टीकरी गांव के रहने वाले सिपाही अजय कुमार 2011 में सेना में भर्ती हुए थे. जो 55 राष्ट्रीय राइफल्स में अजय कुमार तैनात थे. अजय की शहादत की जानकारी मिलते ही काफी संख्या में लोग उनके गांव पहुंच रहे हैं. शहीद के परिजनों के मुताबिक 26 साल के अजय कुमार सात अप्रैल 2011 को 20 ग्रेनेडियर में नियुक्त हुए थे. कुछ समय पहले ही 55 राष्ट्रीय रायफल्स में जम्मू-कश्मीर में उनकी तैनाती हुई थी.


अजय के परिजनों ने बताया कि आज सुबह उन्हें सैन्य अधिकारियों ने फोन पर उनकी शहादत की सूचना दी. बताया जा रहा है कि अजय एक महीने की छुट्टी पर घर आए थे, 30 जनवरी को ही ड्यूटी पर गए थे.जिले के अधिकारी भी पहुंचना शुरू हो गए है. देश में सैनिकों को लेकर अभी वैसे ही माहौल गमगीन बना हुआ है. अब मेरठ जनपद का नाम इस शहीद ने रोशन कर दिया है.

Special Coverage News
Next Story
Share it