Top
Begin typing your search...

मुरादाबाद में डीजीपी बोले, गिरफ्तारी में देरी नहीं हुई, जांच के बाद हुई कार्रवाई

मुरादाबाद में डीजीपी बोले, गिरफ्तारी में देरी नहीं हुई, जांच के बाद हुई कार्रवाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ. उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर (Shahjahanpur) में लॉ छात्रा (Law Student) के रेप मामले में आरोपी स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है. शुक्रवार को एसआईटी (SIT) ने चिन्मयानंद को गिरफ्तार किया, इसके बाद कोर्ट ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया.

उधर चिन्मयानंद की गिरफ्तारी को लेकर विपक्षी दल सवाल उठा रहे हैं, मामले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) का कहना है कि ये जनता और पत्रकारिता की ताकत थी कि एसआईटी को बीजेपी नेता चिन्मयानंद को गिरफ्तार करना पड़ा. उधर मामले में डीजीपी ओपी सिंह (DGP OP Singh) का बयान सामने आया है. डीजीपी ओपी सिंह ने साफ किया है कि गिरफ्तारी में देरी नही हुई. वीडियो के परीक्षण के बाद आरोपियों की गिरफ्तारी की गई.

डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि स्वामी चिन्मयानंद को उनके आश्रम से गिरफ्तार किया गया है. वहीं एसआईटी की टीम ने गिरफ्तार कर मेडिकल कराया, तीन ओर लोगो को गिरफ्तार किया गया है. रंगदारी मांगने के आरोप में तीन लोग गिरफ्तार किए गए हैं. स्वामी चिन्मयानंद से रंगदारी मांगने वाले तीन लोग गिरफ्तार किए गए हैं. कोर्ट ने चिन्मयानंद को चौदह दिन की न्यायिक हिरासत में स्वामी को भेजा. डीजीपी ने कहा कि गिरफ्तारी में देरी नही हुई. वीडियो फोरेंसिक जांच के लिए भेजे गए थे, जांच के बाद आरोपियों की गिरफ्तारी की गई.

चिन्मयानंद अपने आश्रम से किए गए गिरफ्तार

बता दें इससे पहले पुलिस ने चिन्मयानंद के खिलाफ दर्ज केस में रेप की धारा जोड़ी और स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम (SIT) ने बीजेपी नेता चिन्मयानंद (Chinmyanand) को शुक्रवार को उनके आश्रम से गिरफ्तार किया था. इसके बाद उनका मेडिकल टेस्ट कराकर एसआईटी ने उन्हें कोर्ट में पेश किया. उधर चिन्मयानंद की वकील पूजा सिंह ने न्यूज़ एजेंसी ANI को बताया कि चिन्मयानंद को घर से ही गिरफ्तार किया गया है. उन्होंने कहा कि एसआईटी की ओर से अभी तक एफआईआर की कॉपी या फिर अन्य कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है. वकील ने बताया कि एसआईटी ओर से उनके एक परिजन से अरेस्ट मेमो पर साइन कराया गया था, जिसके बाद गिरफ्तारी हुई.

पीड़ित छात्रा का हुआ 164 के तहत कलमबंद बयान

बीते सोमवार को पीड़ित छात्रा का 164 के तहत कलमबंद बयान दर्ज करवाया गया था. उसके बाद से ही पीड़िता आरोपी चिन्मयानंद के खिलाफ रेप का केस दर्ज करने और उसकी गिरफ्तारी की मांग कर रही थी. पीड़िता ने बुधवार को चिन्मयानंद की गिरफ्तारी न होने की सूरत में आत्मदाह की धमकी दी थी.शाहजहांपुर के एसएस लॉ कॉलेज से एलएलएम की पढ़ाई कर रही छात्रा ने बीते 24 अगस्त को फेसबुक पर एक वीडियो वायरल कर पूर्व केंद्रीय मंत्री पर यौन शोषण का गंभीर आरोप लगाया था. इसके बाद अचानक वो लापता हो गई थी. जिसके बाद उसके अपहरण का मामला दर्ज हुआ था.

Special Coverage News
Next Story
Share it