Top
Begin typing your search...

कुंभ मेले पर पड़ी कोविड 19 की काली छाया , यूपी उत्तराखंड के बॉर्डर पर रोके गए श्रद्धालु

कुंभ मेले पर पड़ी कोविड 19 की काली छाया , यूपी उत्तराखंड के बॉर्डर पर रोके गए श्रद्धालु
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मुज्जफरनगर: देश मे एक बार फिर कोविद 19 वैश्विक महामारी को लेकर खतरा बढ़ता जा रहा है जिसकी काली छाया हरिद्वार में चल रहे कुंभ मेले पर पड़ती दिखाई दे रही है उत्तराखंड में कोरोना की रोकथाम के लिए शासन ने महत्वपूर्ण कदम उठाए है जिसके चलते उत्तर प्रदेश से उत्तराखंड में प्रवेश करने के लिए श्रदालुओ को 72 घंटे का कोविड टेस्ट अनिवार्य किया गया है जिस वजह से दूर दराज से आने वाले श्रदालुओ को कोविड टेस्ट के लिए जनपद मुज़फ्फरनगर में पुरकाजी बॉर्डर पर श्रदालुओ को रोका जा रहा है.

शनिवार को मध्य प्रदेश से कई टूरिस्ट बस में सवार होकर आये सैंकड़ो श्रद्धालुओ का कई दिन पुराना कोविड़ टेस्ट हो जाने के कारण उन्हें भारी परेशानी का सामना करना पड़ा इसके बाद सभी श्रद्धालु प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पुरकाजी में पहुंचे. मगर बताया जा रहा है कि पुरकाजी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर 1 दिन में ज्यादा कॉमेडी टेस्ट नहीं हो सकते जिस वजह से आधी अधूरी व्यवस्थाओं में बहरी श्रद्धालुओं को मुजफ्फरनगर के पुरकाजी में दिन और रात गुजारनी पड़ रही है. मगर ना उत्तराखंड और ना उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से इन श्रद्धालुओं रहने खाने की और ठहरने की व्यवस्था कराई गई और ना ही समय से इनके कॉमेडी टेस्ट कराने की व्यवस्था कराई गई.

ऐसे में अब इन श्रद्धालुओं के सामने सबसे बड़ी समस्या यह है कि यह मध्य प्रदेश से 4 से 5 दिन का सफर कर उत्तराखंड बॉर्डर पर पहुंचे हैं. और अब इन लोगों को उत्तराखंड में घुसने की अनुमति नहीं दी जा रही है यात्रियों ने बताया कि वे अपना कोविड-19 टेस्ट करा कर चले थे । लेकिन उत्तराखंड पुलिस प्रशासन उन से 72 घंटे की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट मांग रहा है, अब इतनी जल्दी कहां से करा कर लाए श्रद्धालु पुरकाजी में डेरा जमाए है. जिनमें महिलाएं बूढ़े बच्चे श्रद्धालु शामिल है, और उत्तराखंड सरकार से मांग करते हैं कि उन्हें कुंभ मेले में स्नान करने की अनुमति प्रदान की जाए.

पुरकाजी पीएचसी प्रभारी डॉक्टर अरुण ने बताया कि जितनी पीएचसी पर कोरोना टेस्ट रिपोर्ट आ रही है इन लोगों के सैंपल लिए जा रहे हैं.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it