Top
Begin typing your search...

फर्जी प्रमाण पत्र बना धोखाधड़ी करने वाले चार आरोपियों को थाना सैक्टर-20 ने किया गिरफ्तार

फर्जी प्रमाण पत्र बना धोखाधड़ी करने वाले चार आरोपियों को थाना सैक्टर-20 ने किया गिरफ्तार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा।अपराध पर निरंतर अंकुश लगाने वाली नोएडा पुलिस को उस समय एक बड़ी सफलता मिली जब थाना सैक्टर-20 पुलिस ने बैंक में फर्जी प्रमाण पत्र दिखाकर धोखाधड़ी करने वाले चार आरोपियों को गिरफ्तार किया।आपको बता दे कि कुछ दिन पूर्व 11 तारीख को एक व्यक्ति नोएडा के सेक्टर-18 स्थित आईसीआईसीआई बैंक में गया।जहा उसने फ्रीज खाते के एक खाताधारक का मोबाईल नंम्बर बदलवाने की कोशिश कर रहा था।जिसकी सूचना बैंक द्वारा पुलिस को दी गयी।

पुलिस द्वारा पकड़े गये आरोपी दिल्ली निवासी बबलू ने पूछताछ में बताया कि मैरे गिरोह छः अन्य सदस्य विजय गोयल,समीर खान, मोन्टी,शेरपाल,विरेन्द्र व दो अज्ञात लोग शामिल है।पुलिस ने मुश्तेदी दिखाते हुये चार अभियुक्तों विरेन्द्र पुत्र प्रेमचन्द निवासी ग्राम अस्तौली ग्रेटर नोएडा,गोपाल पुत्र फूल सिंह निवासी एफ-285 सैक्टर 11 प्रताप विहार गाजियाबाद, राहुल गुप्ता पुत्र हरी शंकर गुप्ता निवासी यूजी-005 ब्लाॅक-बी क्रासिंग रिपब्लिक गाजियाबाद और मानिक पुत्र अजयनाथ भार्गव निवासी एन-403 अजनारा कोरनेक्स क्रासिंग रिपब्लिक गाजियाबाद के रुप में पहचान हुयी।ये आरोपी मृत खाताधारकों का मोबाइल नंबर बदलवाकर फर्जीवाड़ा करते थे।

नोएडा जोन के एसीपी प्रथम अरुण कुमार सिंह ने बताया कि दो दिन पहले पांडव नगर, दिल्ली निवासी बबलू विश्वास सेक्टर-18 के आईसीआईसीआई बैंक पहुंचा।उसने वहां खुद को ऐसे अकाउंट का स्वामी बताया, जो काफी पहले से फ्रीज है। खाताधारक की मृत्यु वर्ष 2003 में ही हो चुकी थी।शक होने पर तुरंत बैंक प्रबंधक ने पुलिस को सूचना दी।पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।बबलू ने बताया कि उसके साथ विजय गोयल, समीर खान, मोंटी, शेरपाल, विरेंद्र समेत कई लोग फर्जीवाड़ा करते हैं।सोमवार को पुलिस ने दनकौर निवासी विरेंद्र, गाजियाबाद निवासी गोपाल, क्रॉसिंग रिपब्लिक निवासी राहुल गुप्ता और मानिक को गिरफ्तार कर लिया।पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि फर्जी डीएल, आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी, मार्कशीट या अन्य प्रमाण पत्र बनवा कर धोखाधड़ी करते हैं।बैंक में फर्जी आईडी लगाकर लोन भी लेते थे।ये लोग प्रताप विहार,गाजियाबाद में नमामी कैफे संचालित करते हैं। इनके कब्जे से सीपीयू,हार्ड डिस्क, मॉनिटर, प्रिंटर, फर्जी डीएल, पैन कार्ड, आधार कार्ड बरामद किए गए हैं।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it