Top
Begin typing your search...

नोएडा: सीएम की नारजगी के बाद लॉकडाउन पूरी तरह सफल

उन्होने बताया कि भारी मालवाहक गाड़ियां तो चलेगी लेकिन ड्राइवर और क्लीनर के अलावा कोई नहीं बैठेगा और जो भी अन्य व्यक्ति बैठा होगा उसको वही उतारकर नजदीकी शेल्टर होम में उसे भेज दिया जायेगा।

नोएडा: सीएम की नारजगी के बाद लॉकडाउन पूरी तरह सफल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा (गौतमबुद्ध नगर)। पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह ने बताया कि जनपद गौतमबुद्ध नगर में लॉकडाउन पूरी तरह सफल है तथा इसका कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जा रहा है । संवेदनशील व भीड़भाड वाले संभावित क्षेत्रों में ड्रोन के माध्यम से सर्विलांस किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि कालाबाजारी व जमाखोरी करने वालों पर भी कड़ी नजर रखी जा रही है। जरूरी वस्तुओं की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित कराई जा रही है और इसके लिये सप्लाई चेन को मेंटेन किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि लॉकडाउन व सोशल डिस्टेंसिंग के दृष्टिगत दोपहिया वाहन पर केवल एक व्यक्ति चलेगा, किसी भी दशा मे दूसरा कोई नहीं बैठेगा अन्यथा वाहन सीज कर मुकदमा दर्ज किया जायेगा। इसी प्रकार चार पहिया वाहनों मे केवल दो व्यक्ति एक ड्राइविंग सीट पर दूसरा पीछे बैठेगा, अन्यथा वाहन सीज कर मुकदमा दर्ज किया जायेगा। उन्होने बताया कि भारी मालवाहक गाड़ियां तो चलेगी लेकिन ड्राइवर और क्लीनर के अलावा कोई नहीं बैठेगा और जो भी अन्य व्यक्ति बैठा होगा उसको वही उतारकर नजदीकी शेल्टर होम में उसे भेज दिया जायेगा।

इसके अतिरिक्त आवश्यक वस्तु और सेवाओं के वाहन तथा जिनको पास निर्गत है उनके अलावा कोई अन्य वाहन/व्यक्ति सडकों पर न निकले। उन्होने आगाह किया कि एक बार धारा 144 के उल्लंघन मे वाहन सीज होने पर किसी भी दशा मे 144 लागू रहते छोड़ा नहीं जायेगा।

उन्होने बताया कि सभी व्यक्तियों को इन निर्देशों का पालन करना होगा। मेडिकल, प्रेस ,बैंक, पुलिस, इंटरनेट व दूरसंचार कंपनियों तथा कर्मचारियों को वेतन बाँटने जाने वालों को पास की आवश्यकता नही होगी लेकिन उन्हें अपने संस्थान की आईडी दिखानी होगी।

बता दें कि नोएडा में 50 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या हो गई है. आज 2 नए मरीज मिले है। मां और बेटा संक्रमित मिले है। इसी परिवार में बेटे के पिता करते थे उसी कंपनी में काम, जिसके अब तक कई मरीज सामने आ चुके हैं। पहले से क्वारंटाइन मां बेटे थे, अब आइसोलेशन वार्ड में भेजे गए है।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it