Top
Begin typing your search...

नोएडा के निजी अस्पताल पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप

नोएडा के निजी अस्पताल पर इलाज में लापरवाही बरतने का आरोप
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

धीरेन्द्र अवाना

नोएडा। नोएडा के सेक्टर-34 स्थित एक निजी अस्पताल पर बुजुर्ग मरीज के इलाज में लापरवाही बरतने के आरोप लगे हैं। परिजनों का आरोप है कि अस्पताल के डॉक्टरों ने मरीज को ऑक्सीजन लगाए बिना ही एम्बुलेंस के जरिए जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

जिसकी वजह से जिला अस्पताल पहुंचने से पहले ही बुजुर्ग की मौत हो गई।आपको बता दे कि बरौला निवासी संगराम चौहान का आरोप है 70 वर्षीय बुजुर्ग जिन्हें लोग बाबा नाम से पहचानते है सैक्टर 53 के गिझौर गांव में अकेले रहते थे। शुक्रवार सुबह करीब 9 बजे घर के बाहर अचानक चक्कर खाकर गिर गए।

आसपास रहने वाले लोग उन्हें सेक्टर 34 में बने एक निजी अस्पताल ले गए। जहां डॉक्टर ने पहले इलाज में लाखों रुपये का खर्च बताया।रुपये जमा करने में असमर्थता जताने पर मरीज को सरकारी अस्पताल रेफर करने की बात कही जाने लगी। इसके लिए एम्बुलेंस भी नहीं दी गई। जब इसका विरोध किया गया तो अस्पताल प्रबंधन ने मरीज को अस्पताल पहुंचाने के नाम पर 1000 हजार रुपये मांगे गए। परिजनों का आरोप है कि मरीज को एम्बुलेंस में ऑक्सीजन सिलेंडर लगाने की बाद कही गई थी।

लेकिन रेफर करते समय ऐसा नहीं किया गया जिसकी वजह से जिला अस्पताल पहुंचने से पहले ही बुजुर्ग की मौत हो गई। और तो और हद तो तब हो गयी जब एम्बुलेंस कर्मी शव को जिला अस्पताल के बाहर ही छोड़कर फरार हो रहा था। लेकिन परिजनों ने एम्बुलेंस चालक व अस्पताल के एक स्वास्थ्य कर्मी को पकड़ कर मामले की शिकायत पुलिस से की। घटना की सूचना पर पहुची थाना सेक्टर 20 पुलिस ने समझदारी दिखाते हुये मामले को शांत कराया।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it