Top
Begin typing your search...

रेहड़ी-पटरी वाले ने सीटू के नेत्रत्व में नोएडा प्राधिकरण पर दिया धरना

रेहड़ी-पटरी वाले ने सीटू के नेत्रत्व में नोएडा प्राधिकरण पर दिया धरना
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

धीरेन्द्र अवाना

नोएडा। नोएडा में अतिक्रमण के खिलाफ नोएडा प्राधिकरण की कारवाई रूकने का नाम नही ले रही है।आपको बता दे कि जबसे प्राधिकरण की नई सीईओ रितु महेश्वरी आयी है तब से प्राधिकरण ने नोएडा में फैली अतिक्रमण को खत्म करने का बीड़ा उठा लिया है। काफी समय से इस अतिक्रमण अभियान की चपेट में शहर के निम्न लोगों आये है जो किसी तरह से अपना जीवन यापन कर रहे है। इसी विषय के विरोध में शुक्रवार को रेहड़ी-पटरी वाले सड़क पर उतर आए व प्राधिकरण कार्यालय पर अनिश्चित कालीन धरना पर बैठ गये है।

आपको ज्ञात होगा कि करीब एक माह से शहर में नोएडा प्राधिकरण की मुख्य कार्यपालक अधिकारी रितु माहेश्वरी के निर्देश पर रेहड़ी पटरी वालों को हटाने का अभियान सभी वर्क सर्किल की ओर से चलाया जा रहा है। जिससे रेहड़ी-पटरी वालों को भारी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। जिसकी वजह से लोगों के सामने रोजगार का संकट खड़ा हो गया है ।समय समय पर रेहड़ी-पटरी वाले प्राधिकरण से वेंडर जोन पॉलिसी को लागू करने की मांग कर चुके है। लेकिन अभी तक कोइ ऐसी कोइ व्वयस्था उपल्बध नही करायी गयी है।

जबकि हाईकोर्ट के आदेश के बाद शासन वेंडर जोन पॉलिसी को मंजूरी दे चुका है लेकिन फिर भी प्राधिकरण ने इसे लागू नहीं किया। फिर भी प्राधिकरण बिना वेंडर जोन पॉलिसी को लागू करे ही,बड़े स्तर पर रेहड़ी पटरी बाजार को शहर से हटाने का अभियान चलाया जा रहा है। जिसका विरोध रेहड़ी पटरी वालों की ओर से समय समय पर किया जा रहा है।इसी मांग को लेकर शुक्रवार को प्राधिकरण गेट पर रेहड़ी पटरी वालों ने अपना अनिश्चित कालीन धरना दिया है।

इस धरने में अट्टा दैनिक बाजार, पान क्लब, पान समिति, रेहड़ी पटरी समिति,गुड फूड रेहड़ी पटरी समिति समेत करीब 12 एसोसिएशन से जुड़े लोगों ने एकजुट होकर प्रदर्शन किया। धरने पर बैठे लोगों का कहना है कि पिछले 20 दिन में नोएडा प्राधिकरण पर हाई कोर्ट के आदेश की अवहेलना के 15 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं। हाईकोर्ट ने आदेश दिये है कि जब तक प्राधिकरण इन लोगों के लिए वैकल्पिक व्यवस्था न कर ले,तब तक इन्हें जीविकोपार्जन करने से न रोका जाए।स्थाई सिस्टम बनाने के बाद ही कार्रवाई की जाए।

Special Coverage News
Next Story
Share it