Top
Begin typing your search...

नोएडा पुलिस ने की आम जनता के हित के लिए दो योजना शुरू, एक जुलाई से लागू

नोएडा पुलिस ने की आम जनता के हित के लिए दो योजना शुरू, एक जुलाई से लागू
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नोएडा : 1 जुलाई से गौतमबुद्धनगर (NOIDA) पुलिस दो बहुत ही दिलचस्प योजनाएँ शुरू करने जा रही हैं. आजकल इन दोनों ही बातों की नोएडा ही नहीं पूरे प्रदेश में आम जनता को जरूरत है. चूँकि नोएडा आईटी के हब के रूप में बढ़ रहा है तो यहाँ साइबर क्राइम भी ज्यादा होता है और इसके अपराध को पंजीकृत कराने के लिए आम आदमी को काफी दिक्कत होती है. इस सबको सुलभ बनाने के उद्देश्य से एसएसपी वैभव कृष्ण ने दो नई और दिलचस्प योजना शुरू की है. जो आने वाली एक जुलाई से पूरे जनपद में लागू हो जायेंगी. हालांकि अभी पिछले सप्ताह में रेड कार्ड के नाम से भी छात्राओं की सुरक्षा को लेकर एक योजना लांच की है. जिसको आम जनता ने बड़ा सराहा है.

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि जनपद में एक "डायल एफआईआर" के नाम से योजना लांच की गई है. जो आने वाली एक जुलाई से लागू होगी. जिसके मुताबिक़ चैन, मोबाइल, पर्स, बैग स्नेचिंग, टू व्हीलर थेफ्ट, थ्री व्हीलर थेफ्ट, फोर व्हीलर थेफ्ट, हाउस थेफ्ट, फैक्ट्री थेफ्ट्स, थेफ्ट्स ऑफ व्हीकल आदि और खुली खिड़कियों को तोड़कर जैसे स्ट्रीट क्राइम में एफआईआर दर्ज की समस्या को अब समाप्त करते हुए, ऐसे "अज्ञात" मामलों में 100% एफआईआर रजिस्टर्ड होगी.

एसएसपी ने बताया कि दूसरा साइबर क्राइम के बारे में है. इसके तहत "अज्ञात" मामलों में साइबर अपराध के शिकार लोगों की सुविधा के लिए हमने ग्रामीण क्षेत्र के लिए थाना सूरजपुर और शहरी क्षेत्र के लिए थाना सेक्टर 24 को चुना है. जहां साइबर अपराधों के संबंध में आवेदन दिए जा सकते हैं. इन थानों पर एफआईआर दर्ज की जाएगी और कई टीमों द्वारा जांच की जाएगी. जिससे साइबर क्राइम के मामलों में आम जनता को सहूलियत मिले.

दोनों पहल 1 जुलाई, 2019 से लागू की जाएंगी

एसएसपी ने बताया कि स्ट्रीट क्राइम और साइबर क्राइम के पीड़ितों को राहत देते हुए ऐसे मामलों में अपनी एफआईआर दर्ज करवाने के लिए लोगों को अलग-अलग जगहों पर नहीं जाना पड़ेगा. पुलिस में आने वाले अधिकतम लोग ऐसे अपराधों के शिकार होते हैं. यह पुलिस को ऐसे अपराधों के "हॉट स्पॉट" को बेहतर तरीके से पहचानने में मदद करेगा, मोडस ऑपरेंडी, अपराधियों की बेहतर तरीके से पहचान करेगा और उन अपराधों को आने वाले समय में कम करेगा.

बता दें कि जब से जिले की कमान युवा आईपीएस अधिकारी वैभव कृष्ण ने संभाली है तब से रोज उनका ध्यान नोएडा जिले को अपराध मुक्त बनाने पर केन्द्रित है. इसके लिए उन्होंने समय समय पर कई बड़े बदलाब भी किये. जिसमें NPP के तहत एक नई यूनिट का गठन भी किया. छात्राओं को लेकर अभी रेड कार्ड भी चलाया है.

Special Coverage News
Next Story
Share it