Begin typing your search...

नशे की हालत में अधिवक्ता ने लहराई अवैध पिस्टल

नशे की हालत में अधिवक्ता ने लहराई अवैध पिस्टल
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

प्रयागराज जिले के सबसे पॉश इलाके सिविल लाइंस होटल इलावर्त जिसे टूरिस्ट बंगलो के नाम से भी जाना जाता है|शाम को एक अधिवक्ता ने नशे की हालत में वेटर के पैसे मांगने पर चला दी गोली| विक्रम सिंह यादव नाम का अधिवक्ता जोकि अक्सर बीयर पीने टूरिस्ट बंगलो जाया करता था,और ज्यादा नशे में हो जाने के बाद वहां के वेटरों को भद्दी भद्दी गालियां देकर भगा देता था,पैसे मांगने पर सबको धमकी भी देता था|आए दिन इस तरीके की वारदात से वहां के लोग तंग आ चुके थे इस अधिवक्ता से|आखिरकार वो दिन आ गया जब सभी के धैर्य का बांध टूट गया|

मौक़े पर सर्विस बच्चा लाल देख रहा था,शराब पीकर अधिवक्ता जब उठ कर जाने लगा तब बच्चा लाल ने उसके सामने पहले का और तत्काल का बिल रख दिया और कहा मेरी नौकरी पर बनआई है,हो सके तो आज पूरा बिल चुकता कर दीजिए,इसी बात पर अधिवक्ता ताओ मे आकर बोला आज बिल चूका ही देता हूँ तेरा मै और अपने कमर पर लगी अवैध पिस्टल को निकालकर गोली चला दी| फिलहाल गोली किसी को ना लग कर सामने रखी टीवी पर जा लगी इसके बाद वहां के मैनेजर ने तुरंत सिविल लाइंस थाने पर फोन कर सूचित किया जब तक में अधिवक्ता भागने की कोशिश करता तब तक में पुलिसवालों की तेज़ी के कारण अधिवक्ता भागने में असफल रहा और मौका ए वारदात पर अवैध पिस्टल के साथ पकड़ा गया|

इन सभी वारदात की सीसीटीवी फुटेज भी मौजूद है,जिसके आधार पर पुलिस अधिवक्ता पर गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेजने का कार्य कर दिया है| सूत्रों की माने तो विक्रम सिंह यादव लाखों की धोखाधड़ी व मारपीट में भी नामजद रह चुका है| उस पर सेना के जवान समेत तीन लोगों ने जमीन के नाम पर लाखों की धोखाधड़ी के मुकदमे धूमनगंज बाकरगंज में दर्ज कराए है| धूमनगंज के दोनों मुकदमों में लगभग 13:5 लाख व 7 लाख और कर्नलगंज के केस में लगभग साडे छः लाख हड़पने का आरोप है विक्रम सिंह यादव के ऊपर|

इस विषय पर जिले के डीआईजी/ एसएसपी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी से बात की गई तो उन्होंने साफ तौर पर कहा अपराधी चाहे जो भी तबके का हो वह कभी बख्शा नहीं जाएगा|चाहे वह शासन प्रशासन से जुड़ा हुआ व्यक्ति ही क्यों ना हो,कानून सभी के लिए बराबर है|

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it