Top
Begin typing your search...

इलाहाबाद हाईकोर्ट का अहम फैसला, डीएनए टेस्ट से साबित कर सकते हैं कि पत्नी बेवफा है या नहीं

इलाहाबाद हाईकोर्ट का अहम फैसला, डीएनए टेस्ट से साबित कर सकते हैं कि पत्नी बेवफा है या नहीं
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

प्रयागराज:- इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एक मामले में सुनवाई के दौरान दिया आदेश जिसमे हमीरपुर के रहने वाले इस दंपती का फैमिली कोर्ट से हो चुका है तलाक, तलाक के तीन साल बाद पत्नी ने मायके में दिया है बच्चे को जन्म।

तलाक के बाद पत्नी के दावे के दौरान कोर्ट ने कहा

पत्नी ने किया दावा कि बच्चा उसके पति का है, जबकि पति ने पत्नी के साथ शारीरिक संबंध होने से किया इंकार, हाईकोर्ट ने कहा शख्स बच्चे का पिता है या नहीं यह साबित करने के लिए डीएनए टेस्ट सबसे बेहतर तरीका, कोर्ट ने कहा कि डीएनए टेस्ट से यह भी साबित हो सकता है कि पत्नी बेवफा है या नहीं।

याची की पत्नी ने फैमिली कोर्ट के आदेश को दी थी चुनौती

याची पत्नी नीलम ने हमीरपुर की फैमिली कोर्ट के आदेश को दी थी चुनौती, पति राम आसरे ने फैमिली कोर्ट में डीएनए टेस्ट मांग में दाखिल की थी अर्जी, फैमिली कोर्ट ने अर्जी कर दी थी खारिज। यह आदेश जस्टिस विवेक अग्रवाल की एकल पीठ ने दिया।।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it