Top
Begin typing your search...

रायबरेली में डीएम को महाधिवक्ता बनकर धमका रहा था युवक, और फिर एसपी श्लोक कुमार ने खोली पोल

रायबरेली में डीएम को महाधिवक्ता बनकर धमका रहा था युवक, और फिर एसपी श्लोक कुमार ने खोली पोल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उत्तर प्रदेश के रायबरेली जनपद में बुधवार को डीएम रायबरेली वैभव श्रीवास्तव को धमकाने वाले एक आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोपी खुद को एडवोकेट जनरल बताकर डीएम से अवैधानिक काम करने का दबाव बना रहा था। डीएम को शख्‍स पर शक हुआ, जिसपर उन्‍होंने नटवरलाल को पुलिस के हवाले कर दिया।

बता दें, तीन दिन पूर्व पुलिस ने सीएम का ओएसडी बनकर एसपी को धमकाने वाले एक जालसाज डॉक्टर को अरेस्‍ट किया था।

क्‍या था पूरा मामला

एसडीएम प्रशासन राम अभिलाष ने बताया कि महाराजगंज के राघवपुर निवासी विजय कुमार पुत्र राम दयाल प्रार्थना पत्र देने आए थे कि उनके तालाब का आवंटन है, वहां जो पेड़़ लगे हुए हैं उसको काटने और तालाब की खुदाई की अनुमति दी जाए।

विजय कुमार ने खुद को आरके सिंह उच्च न्यायालय लखनऊ का महाधिवक्ता बताया, जब उनसे काउंटर किया गया तो कभी अपने आप को महाधिवक्ता का ड्राइवर तो कभी कहा कि उनके साथ रहते हैं। संदेह होने पर कोतवाली नगर के प्रभारी को बुलाकर उसे पुलिस को पूछताछ के लिए दिया गया। पुलिस से कहा गया है जांच कर मामले में कार्रवाई की जाए।

तीन दिन पहले ऐसे ही एक जालसाज को भेजा गया था जेल

एसडीएम प्रशासन ने ये भी कहा कि अभी तीन दिन पहले एसपी ने भी ऐसे ही जालसाज को जेल भेजा था। अब लोग कैसे इस तरह की हिम्मत कर रहे इस पर जरूर सोचना है, इस पर लगाम लगेगा।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it