Top
Begin typing your search...

किसानों की उन्नति के लिए डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू किया जाए : भगत सिंह वर्मा

केंद्र सरकार डीजल पेट्रोल गैस बिजली के रेट बढ़ाकर महंगाई को बढ़ावा दे रही है। भगत सिंह वर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी गन्ना किसानों की घोर उपेक्षा कर रहे हैं।

किसानों की उन्नति के लिए डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू किया जाए : भगत सिंह वर्मा
X

भगत सिंह वर्मा : प्रतीकात्मक फोटो

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर, यूपी - पश्चिम उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में पेपर मिल रोड पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के कार्यालय पर बैठक को संबोधित करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने कहा कि भाजपा की केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार लगातार अन्नदाता किसानों की उपेक्षा कर रही हैं और किसानों को बर्बाद करने पर तुली हुई है प्रधानमंत्री मोदी जी का 2022 में किसानों की आय दोगुना करना एक जुमला ही है। किसानों की आय दुगनी तो क्या आधी भी नहीं रही है। अन्नदाता किसान भारी आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं। भगत सिंह वर्मा ने कहा कि देश के अन्नदाता किसानों की उन्नति के लिए हरित क्रांति के जनक महान कृषि वैज्ञानिक डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को तत्काल लागू किया जाए। मुख्य बात -

  • किसानों की उन्नति के लिए डॉक्टर एम एस स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू किया जाए - भगत सिंह वर्मा
  • केंद्र सरकार राष्ट्रीय किसान आय आयोग का गठन करें - भगत सिंह वर्मा
  • योगी सरकार प्रदेश में गन्ने का लाभकारी रेट ₹600 कुंटल तत्काल घोषित करें - भगत सिंह वर्मा

डॉक्टर स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट से ही देश और प्रदेश के किसानों को उनकी फसलों का लाभकारी मूल्य मिल सकता है। भगत सिंह वर्मा ने कहा कि केंद्र सरकार को किसानों की उन्नति के लिए तत्काल राष्ट्रीय किसान आय आयोग का गठन करना चाहिए ताकि किसानों की एक निश्चित आए उन्हें मिल सके। भगत सिंह वर्मा ने कहा कि केंद्र और प्रदेश सरकार किसानों के लिए कोई ठोस कार्य नहीं कर रही हैं।

तीन कृषि कानून किसान विरोधी और देश विरोधी हैं इन्हें तो केंद्र सरकार वापस ले नहीं रही है उल्टे किसानों पर और आम उपभोक्ताओं पर बिजली के भयंकर रेट बढ़ा दिए हैं जिन्हें किसान देने की स्थिति में नहीं है केंद्र सरकार डीजल पेट्रोल गैस बिजली के रेट बढ़ाकर महंगाई को बढ़ावा दे रही है। भगत सिंह वर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी गन्ना किसानों की घोर उपेक्षा कर रहे हैं।

पिछले 4 वर्ष से गन्ने का रेट नहीं बढ़ाया गया है। और चीनी मिले कम रेट का भी गन्ना भुगतान गन्ना किसानों को नहीं कर रहे हैं। और पिछले वर्षों में देरी से किए गए गन्ना भुगतान पर लगा ब्याज भी गन्ना किसानों को नहीं दे रहे हैं जिसके लिए सरकार जिम्मेदार हैं। सरकार किसानों के हित में मनरेगा योजना को सीधा खेती से नहीं जोड़ रही है यदि मनरेगा योजना को खेती से जोड़ दिया जाए तो इससे किसानों और देश को काफी लाभ होगा।

भगत सिंह वर्मा ने चीनी मिल मालिकों व सरकार को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि यदि योगी सरकार ने जल्द ही गन्ने का लाभकारी रेट ₹600 कुंटल घोषित न किया चीनी मिलों से बकाया गन्ना भुगतान व ब्याज तुरंत न दिलाया, बिजली के रेट कम ने किए, मनरेगा योजना को खेती से ना जोड़ा गया, डीजल पेट्रोल व गैस के दाम कम न किए गए तो पश्चिम परदेस मुक्ति मोर्चा 15 सितंबर 2011 को देवबंद गन्ना समिति में विशाल महापंचायत करके देवबंद रेलवे स्टेशन पर रेलों का चक्का जाम करेगा। बैठक को संबोधित करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव रविंद्र चौधरी गुर्जर ने कहा कि इस बार राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा के नेतृत्व में प्रदेश के गन्ना किसान गन्ने का लाभकारी रेट ₹600 कुंटल लेकर ही रहेंगे।

इसके लिए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा लगातार संघर्ष कर रहा है। रविंदर चौधरी गुर्जर ने कहा कि जिस दिन पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 26 जिलों को मिलाकर पृथक पश्चिम प्रदेश का निर्माण होगा उस दिन गन्ने का लाभकारी रेट ₹600 कुंटल नकद किसानों को मिलेगा और युवाओं को रोजगार मिलेगा और महंगाई कम होगी इसके लिए किसान मजदूर व्यापारी व नौजवान भारी संख्या में 15 सितंबर को देवबंद पहुंचे।

बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश महामंत्री आसिम मलिक ने कहा कि किसान देश का अन्नदाता है। देश के नेताओं के लिए किसान प्रथम होना चाहिए क्योंकि किसानों की क्रय शक्ति बढ़ने से ही देश आर्थिक रूप से मजबूत हो सकता है।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुक्ति मोर्चा के जिला अध्यक्ष सुशील गुर्जर धारकी ने कहा कि पृथक पश्चिम प्रदेश के निर्माण से ही यहां की 8 करोड़ जनता की समस्याएं हल होंगी इसलिए पृथक पश्चिम प्रदेश का निर्माण जरूरी है।

बैठक में अजीत सिंह प्रधान सुधीर चौधरी मोहम्मद मुकर्रम प्रधान रविंद्र चौधरी प्रधान महबूब हसन वसीम मोहम्मद फारुख डॉक्टर यशपाल त्यागी सुभाष त्यागी नीरज सैनी प्रधान मोहम्मद इस्लाम हाजी साजिद जोगिंदर सिंह हरपाल सिंह राजकरण चौधरी सरदार गुरविंदर सिंह बंटी वीरेंद्र सिंह बिल्लू नरेश कुमार एडवोकेट ने भाग लिया।

सौजन्य से -

आसिम मलिक

प्रदेश महामंत्री

पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा।

प्रत्यक्ष मिश्रा
Next Story
Share it