Begin typing your search...

जब एक साथ उठे छह जनाजे तो रो पड़ा मिर्जापुर, सीएम योगी ने जताया दुख

सहारनपुर जिले में जब घर से छह लोगों के जनाजे निकले

जब एक साथ उठे छह जनाजे तो रो पड़ा मिर्जापुर, सीएम योगी ने जताया दुख
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

सहारनपुर के बेहट में हाईवे पर हुए भीषण सड़क हादसे में मारे गए एक ही परिवार के छह लोगों के जनाजे एक साथ उठे तो पूरा मिर्जापुर रो पड़ा। वहीं गमगीन माहौल में हर आंख नम हो गई। चारों तरफ चीख-पुकार मची थी। करुण रुदन की आवाज हर किसी के दिल को चीर कर निकल रही थी। नमाज-ए-जनाजा के बाद सभी शवों को कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया।

मिर्जापुर की मातागढ़ बस्ती के आदिल (25), उसकी गर्भवती पत्नी आसमां (23), मां सुल्ताना (48), मामा मशकूर (35), मामी रुखसार (32), मौसी रिहाना (40) पत्नी सलीम कार में सवार थे। वहीं रविवार की रात बेहट क्षेत्र में हाईवे पर उनकी कार व खनिज से भरे ट्रक की आमने-सामने की टक्कर हो गई। हादसे में परिवार के छह लोगों की मौत हो गई।

वहीं सोमवार को करीब तीन बजे पोस्टमार्टम के बाद सभी छह शव मिर्जापुर पहुंचे, तो कोहराम मच गया। हर कोई आदिल के घर की तरफ दौड़ पड़ा। इस दौरान वहां जनसैलाब उमड़ गया। चारों तरफ चीख-पुकार मच गई। हर आंख नम हो गई। आदिल की बहन हिना अपने इकलौते भाई, भाभी और मां के जनाजे को देखकर बेसुध होकर गिर पड़ी। पूरे परिवार के खत्म होने से गमजदा हिना को महिलाएं दिलासा दे रही थी। आदिल के घर के आंगन में ही मशकूर व उसकी पत्नी रुखसार के शवों पर उनके छोटे-छोटे बच्चें लिपटकर रो रहे थे। कह रहे थे अब्बू-अम्मी हमें छोड़कर क्यों चले गए। अब हमारा क्या होगा। रिहाना के परिवार का भी यहीं हाल था। एक ही घर के आंगन में छह लाशें रखी थीं। लाशों पर लिपटकर रो रहे परिवार के लोगों के करुण रुदन से ऐसा लग रहा था कि पूरा मिर्जापुर रो रहा है। सवा पांच बजे असर की नमाज के बाद मदरसा फैजान-ए -हीमी में नमाज-ए-जनाजा हुई और उसके बाद शवों को गांव के कब्रिस्तान में सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया।

हादसे ने निगल लिया पूरा परिवार

भीषण हादसे में आदिल समेत उसका पूरा परिवार खत्म हो गया। आदिल परिवार का इकलौता बेटा था। परिवार में इसके अलावा उसकी पत्नी आसमां और मां सुल्ताना थी। पिता की करीब 20 साल पहले मौत हो गई थी। एक बहन हिना है, जिसकी उत्तराखंड के जनपद हरिद्वार के सुल्तानपुर में शादी हुई है। आसमां नौ महीने की गर्भवती थी। घर में नया मेहमान आने वाला था। आसमां की डिलीवरी के लिए आदिल परिवार के लोगों के साथ सहारनपुर गया था, लेकिन अल्ट्रासाउंड के बाद डॉक्टर ने कहा कि अभी डिलीवरी में कुछ दिन बाकी है। इसके बाद वह वापस लौट रहा था, लेकिन उन्हें क्या पता था कि रास्ते में मौत कुंडली मारे बैठी उनका इंतजार कर रही है। आसमां के साथ ही आदिल का वंश खत्म हो गया।

ओवरटेक करने के दौरान ट्रक से टकराई वैन

जिस मारुति वैन में हादसा हुआ, उसे आदिल चला रहा था। गंदेवड़ के पास उसने आगे जा रहे वाहन को ओवरटेक करना चाहा तो अचानक सामने से खनिज से भरा ट्रक आ गया और वैन की ट्रक से सामने की टक्कर हो गई। दोनों वाहनों की रफ्तार इतनी तेज थी कि वैन के परखच्चे उड़ गए। आदिल ने कुछ दिन पहले ही नई वैन खरीदी थी, जिसमें वह कभी सब्जी बेच लेता था और कभी कपड़े आदि सामान की फेरी कर परिवार की गुजर-बसर कर रहा था। कभी कभार दिहाड़ी मजदूरी भी कर लेता था।

पोस्टमार्टम हाउस पर पहुंचे जनप्रतिनिधि और राजनेता

हादसे की सूचना मिलने पर सांसद फजलुर्रहमान, बेहट विधायक उमर अली खान, पूर्व विधायक इमरान मसूद, शायान मसूद व पूर्व सांसद राघव लखनपाल शर्मा जिला अस्पताल पहुंचे और घायल फुरकाना का हाल जाना। उसके बेहतर इलाज के लिए डॉक्टरों से वार्ता की। इसके बाद सभी राजनेताओं और जनप्रतिनिधियों ने पोस्टमार्टम हाउस पर पहुंचकर मृतकों के परिजनों से मिलकर दु:ख जताया। सांसद फजलुर्रहमान, क्षेत्रीय विधायक उमर अली खान, पूर्व विधायक इमरान मसूद, शायन मसूद, जिला पंचायत सदस्य चौधरी ताहिर पहलवान जनाजे में शामिल हुए।

मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर हादसे पर जताया दु:ख

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार की रात सहारनपुर में हुए भीषण सड़क हादसे पर ट्वीट कर गहरा दु:ख प्रकट किया है। उन्होंने दिवंगतों की आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की।

रविवार की रात बेहट में हाईवे पर हुए भीषण हादसे की सूचना मिलते ही पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची थी। वैन गलत साइड जाकर ट्रक में दुर्घटनाग्रस्त हुई है। ट्रक को कब्जे में ले लिया गया है और हादसे की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। - डॉ. विपिन ताडा, एसएसपी

ये था हादसा

मारूति वैन में मिर्जापुर निवासी आदिल समेत परिवार के सात लोग सवार थे। इनमें पांच महिलाएं शामिल थी। आदिल और उसकी पत्नी आसमां, उसके मामा मशकूर व मामी रुखसार की घटनास्थल पर ही मौत हो गई थी, जबकि उसकी मां सुल्ताना व मौसी रिहाना ने जिला अस्पताल में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया है। फुरकाना का उपचार चल रहा है। फुरकाना भी मृतक आदिल की मौसी है। ये सभी लोग रविवार को आदिल की गर्भवती पत्नी आसमां को डॉक्टर को दिखाने गए थे। देर रात में मारुति वैन से लौट रहे थे। बेहट क्षेत्र में वैन की ट्रक से सीधी भिड़त हो गई थी।

साभार अमर उजाला

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it