Top
Begin typing your search...

यूपी में सत्ताधारी खनन माफिया के आगे नतमस्तक हुआ जिला प्रशासन

यूपी में सत्ताधारी खनन माफिया के आगे नतमस्तक हुआ जिला प्रशासन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पुलिस के संरक्षण में गर्रा नदी से हो रहा अवैध बालू खनन

सुभाष नगर में डॉट पुल के पास नदी से निकाली जा रही रेत

सुभाष नगर चुंगी पुलिया के पास खाली प्लाट में डंप की जा रही बालू

शाहजहांपुर। जिले में बालू के अवैध खनन का खेल नहीं थम रहा है। जिला प्रशासन और पुलिस की नाक के नीचे यह कारोबार लंबे समय से फलफूल रहा है। फिर भी खनन विभाग के अधिकारी व पुलिस पदाधिकारी अनजान बने रहते हैं। बालू माफिया चतुराई के साथ रात के अंधेरे में बालू का अवैध खनन करते हैं। सुबह पांच बजे तक काम को अंजाम दिया जाता है, ताकि दिन के उजाले में उनकी करतूत लोगों की नजर से बची रहे।

आसपास के लोगो की मानें तो बालू का अवैध कारोबार पुलिस की शह से ही हो रहा है। प्रतिदिन अवैध बालू लोड दर्जनों ट्रैक्टर ट्रॉलियां व बुग्गियों(तांगा गाड़ी) एक साथ निकलती हैं। रात भर खाली ट्रॉलियां बार-बार गर्रा नदी की ओर जाती हैं। फिर प्रतिबंधित घाटों से बालू भरकर वापस लौटती हैं। अवैध खनन कर बालू ले जाने वाले ट्रैक्टर ट्रॉलियों व बुग्गियों की तस्वीरें व वीडियो भी लगातार सामने आते रहे हैं। परंतु खनन विभाग के अधिकारी व पुलिस कार्रवाई करने से कतराते हैं। सुभाष नगर में डॉट पुल के पास कच्चे रास्ते से होकर गर्रा नदी को जाने वाले रास्ते से हर रोज खनन होता है। यहां रात 10 बजे के बाद से खनन का काम शुरू होता है जो सुबह पांच बजे तक बदस्तूर जारी रहता है। दर्जनों ट्रेक्टर ट्रालियां और बुग्गियां बेखौफ चक्कर लगाते रहते हैं। यहां से रात के अंधेरे में बालू को निकालकर सुभाष नगर की चुंगी पुलिया के पास खाली पड़े प्लाट में डंप कर दिया जाता है। फिर दिन में छोटे ट्रेक्टर ट्राली, बुग्गियों और ई रिक्शा के जरिये शहर भर में महंगे दामों पर सप्लाई की जाती है।

पुलिस और खनन विभाग के लोग मैनेज

अवैध खनन के इस खेल को पुलिस के अलावा खनन विभाग के लोगो का संरक्षण प्राप्त है। खनन माफियाओं पर कोई कार्रवाई न हो इसके लिए माफिया पुलिस व खनन विभाग के कुछ लोगो को मैनेज किये हुए हैं। जिसके बदले यह लोग माफियाओं का संरक्षण देते हैं।

राजस्व और पर्यावरण को नुकसान पहुंचा रहे माफिया

अवैध खनन से सरकार को भारी राजस्व का नुकसान उठाना पड़ रहा है। वहीं खनन माफिया नदी का सीना चीरकर पर्यावरण को नुकसान भी पहुंचा रहे हैं। नदी के किनारे बालू निकालने वालो ने कई फिट के गहरे गड्ढे कर दिए हैं। बड़े पैमाने पर रेत निकलने से भविष्य में नदी का जल स्तर बढ़ने पर बाढ़ का खतरा बढ़ने की भी आशंका रहेगी।

"हमारे पास खनन की सूचना नही है। अगर सूचना दी जाएगी तो मौके पर जाकर अवैध खनन करने वालो को पकड़ा जायेगा।"

अभय रंजन(जिला खनन अधिकारी)

"जहां से खनन होता है वो हमारे क्षेत्र में नही आता है।सिर्फ डॉट पुल तक सदर बाजार क्षेत्र का एरिया है। यदि चौकी क्षेत्र में खनन होता पाया गया तो अवश्य कार्यवाही की जाएगी।"

(राकेश यादव चौकी प्रभारी अशफाक नगर)

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it