Begin typing your search...

सुल्तानपुर के ADJ सस्पेंड, पुश्तैनी जमीन बचाने के लिए लेटे थे प्रशासन की JCB के सामने

एडीजे मनोज शुक्ला (ADJ Manoj Shukla) को हाईकोर्ट (High Court) के निर्देश के बाद निलंबित कर दिया गया है। 

सुल्तानपुर के ADJ सस्पेंड, पुश्तैनी जमीन बचाने के लिए लेटे थे प्रशासन की JCB के सामने
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

ADJ Suspended : यूपी (Uttar Pradesh) के सुल्तानपुर (Sultanpur) के एडीजे मनोज शुक्ला (ADJ Manoj Shukla) को हाईकोर्ट (High Court) के निर्देश के बाद निलंबित कर दिया गया है। मनोज शुक्ला तब चर्चा में आए थे, जब वो अपनी पैतृक जमीन को बचाने के लिए जेसीबी के आगे लेट गए थे। उन्हें निलंबित करने का फैसला इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad High Court) ने किया है।

हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार एडीजे शुक्ला के आचरण पर संज्ञान लेते हुए उच्च न्यायालय की प्रशासनिक समिति ने उन्हें निलंबित करने का फैसला लिया है। इस आदेश को सुल्तानपुर जिला न्यायालय को भेज दिया गया है।

आपको बता दें कि एडीजे शुक्ला उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले के छपिया शुक्ल गांव के रहने वाले हैं। उनकी जमीन को जिला प्रशासन ने हरिया-रजवाहा सरयू नहर के निर्माण के लिए अधिग्रहित किया था। ये नहर उस सरयू नहर राष्ट्रीय परियोजना का हिस्सा है, जिसका उद्घाटन पिछले साल दिसंबर में प्रधानमंत्री ने किया था।

ये जमीन एडीजे शुक्ला के पिता की नाम पर है। खबरों के मुताबिक राज्य के सिंचाई विभाग ने जिला प्रशासन को पत्र लिखकर परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण में मदद मांगी थी।

गौरतलब है कि एडीजे शुक्ला पिछले दिनो अपनी जमीन बचाने के लिए पूरी रात जिला प्रशासन की टीम के सामने बिना कुछ खाए-पिए जमीन पर लेटे रहे थे। उस दौरान उन्होंने कहा था- मैं एक न्यायिक अधिकारी हूं, यह मेरी पुश्तैनी जमीन है। हमारी जमीन पर कब्जा किया जा रहा है, यह काम गलत है। भूमि अधिग्रहण नियमों के विरुद्ध है।

घटना के बाद, बस्ती के जिला मजिस्ट्रेट ने राज्य सरकार को एक रिपोर्ट भेजी थी, जिसने इसे इलाहाबाद उच्च न्यायालय को भेज दिया था। जिसपर सस्पेंड करने की कार्रवाई की गई।

Sakshi
Next Story
Share it