Begin typing your search...

उन्नाव: दुष्कर्म पीड़िता को लेकर सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों ने जारी किया मेडिकल बुलेटिन

उन्नाव: दुष्कर्म पीड़िता को लेकर सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों ने जारी किया मेडिकल बुलेटिन
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ। हैदराबाद गैंगरेप के चारों आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया है और उस पर पूरा देश उनके एंनकाउटर पर जश्न मना रहा है तो वही उन्नाव रेप पीड़िता सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी और मौत से जंग लड़ रही है। बतादें कि गुरुवार की रात उन्नाव रेप पीड़िता को लखनऊ से एयर लिफ्ट कराकर दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती करा दिया गया था। जहां से उसे ग्रीन कॉरिडोर की सुविधा देते हुए 13 किमी के सफर को 18 मिनट में पूरा कर अस्पताल लाया गया।

राजधानी के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती पीड़ित की हालत बेहद नाजुक है, उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है। शुक्रवार को अस्पताल के सुपरिंटेंडेंट डॉक्टर सुनील गुप्ता ने कहा कि हमारी ओर से हर संभव कोशिश की जा रही है, लेकिन उसके बचने की संभावना बहुत कम है। वह 90% जल चुकी है तो पीड़िता के दो अंदरूनी अंग भी आग की चपेट में आ गए हैं, जिसके चलते पीड़िता की परेशानी बढ़ती ही जा रही है. आज डॉक्टर पीड़िता के दो छोटे ऑपरेशन करने का निर्णय भी ले सकते हैं।

सफदरजंग अस्पताल के सूत्रों की मानें तो जांच के दौरान सामने आया है कि जलने के दौरान पीड़िता के शरीर को सबसे ज्यादा नुकसान कमर के निचले हिस्से को पहुंचा है. यहां तक की जलने के कारण पीड़िता के दो अंदरूनी अंग काफी क्षतिग्रस्त हुए हैं. जिसके चलते पीड़िता की परेशानी और बढ़ती जा रही है।

डाक्टरों की एक टीम ने बताया है कि जलने के बाद शरीर में फैलने वाले संक्रमण पर भी पैनी निगाह रखी जा रही है. संक्रमण न फैले इसके लिए डॉक्टर हर संभव कदम उठा रहे हैं. जानकारों का कहना है कि अगर एक बार जलने के बाद शरीर में संक्रमण फैल गया तो फिर उसे कंट्रोल करना बहुत मुश्किल हो जाता है. यहां तक की बहुत सारे केस में जले हुए मरीज की मौत ही इसी संक्रमण के चलते हो जाती है।

बतादें की लड़की को उसी के गांव के आरोपी शिवम ने शादी का झांसा देकर अपने जाल में फंसा लिया था। उसने दुष्कर्म के वीडियो बनाकर ब्लैकमेल और मानसिक तौर पर यातनाएं दीं। परेशान होकर लड़की अपनी बुआ के घर रायबरेली चली गई। शिवम ने यहां भी उसका पीछा नहीं छोड़ा और हथियारों के दम पर सामूहिक दुष्कर्म किया था।

इसके बाद 5 मार्च, 2018 को परिवार की शिकायत पर एफआईआर दर्ज की गई। पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर दुष्कर्म के दो आरोपियों शिवम और शुभम को गिरफ्तार किया था। इसके बाद दोनों 3 दिसंबर को जमानत पर बाहर आए तो लड़की को जला दिया। पुलिस ने शिवम, उसके पिता रामकिशोर, शुभम, हरिशंकर और उमेश बाजपेयी को गिरफ्तार किया है।

Sujeet Kumar Gupta
Next Story
Share it