Begin typing your search...

Char Dham Yatra : चारधाम यात्रा पर मौसम की मार, हजारो तीर्थयात्री फंसे, 24 घंटे में 7 श्रद्धालुओं की मौत, अबतक 56 लोगों ने गंवाई जान

जानकारी के मुताबिक ये सभी श्रद्धालु अलग-अलग जगह पर फंसे हुए हैं. बताया जा रहा है कि यह मार्ग खुलने में करीब 3 दिन लग सकते हैं.

Char Dham Yatra : चारधाम यात्रा पर मौसम की मार, हजारो तीर्थयात्री फंसे, 24 घंटे में 7 श्रद्धालुओं की मौत, अबतक 56 लोगों ने गंवाई जान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

Char Dham Yatra : चारधाम यात्रा पर मौसम की मार भी जारी है. इसी बीच यमुनोत्री धाम के लिए जाने वाले हाईवे की सेफ्टी वॉल धंस गई है. इसके करीब 10 हजार श्रद्धालु फंस गए हैं. शुरुआती जानकारी के मुताबिक ये सभी श्रद्धालु अलग-अलग जगह पर फंसे हुए हैं. बताया जा रहा है कि यह मार्ग खुलने में करीब 3 दिन लग सकते हैं.

उत्तरकाशी जिले में स्यानाचट्टी और रानाचट्टी के बीच सड़क धंसने से यमुनोत्री हाईवे शुक्रवार शाम फिर से बड़े वाहनों के लिए बंद कर दिया गया। इससे यमुनोत्री क्षेत्र में तीन हजार यात्री फंस गए। डामटा से जानकीचट्टी के बीच भी तमाम यात्री यमुनोत्री हाईवे खुलने का इंतजार कर रहे हैं। एनएच के अधिशासी अभियंता राजेश पंत ने बताया, मार्ग जल्द खोल दिया जाएगा।

हार्ट अटैक से कई मौतें

दुखद खबर ये है कि पिछले 24 घंटे में 7 तीर्थ यात्रियों की मौत हो गई है वहीं अबतक कुल 56 लोगों ने अपनी जान गंवाई है। इन तीर्थ यात्रियों की मौत दिल की धड़कन (Heart Attack) से हुई है। बता दें चार धाम यात्रा की शुरुआती दिनों से 56 लोगों में से 54 लोगों की मौत दिल का दौरा पड़ने की वजह से ही हुई है।

उधर, विभिन्न प्रांतों से चारधाम यात्रा पर आए छह श्रद्धालुओं की हार्टअटैक से मौत हो गई। रुद्रप्रयाग के सीएमओ डॉ.बीके शुक्ला ने बताया कि शुक्रवार को प्रदीप कुलकर्णी (61) निवासी पुणे, महाराष्ट्र, और बंशीलाल (57) निवासी मंदसौर, मध्य प्रदेश की मृत्यु हो गई। बदरीनाथ में बीना बेन (55) निवासी गुजरात की भी हृदयगति रुकने से मृत्यु हो गई।

उधर, ऋषिकेश में चारधाम की यात्रा करके लौटे अवधेश नारायण तिवारी (65) पुत्र शिव प्रसाद तिवारी निवासी साहो आमला गोरखपुर, यूपी की हार्ट अटैक से मौत हो गई। वहीं, हरिद्वार और ऋषिकेश के मंदिरों के दर्शन के लिए आईं सौरम बाई (49) निवासी धार, मध्य प्रदेश और उमेश दास जोशी (58) निवासी मलाड, मुंबई की भी हार्ट अटैक से मृत्यु हो गई।

चारधाम यात्रा पर जा रहे तीर्थ यात्रियों के लिए ऑफलाइन पंजीकरण काे रोक दिया गया है। रजिस्ट्रेशन के बिना ऋषिकेश से ऊपर तीथ यात्रियों को जाने नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में ऋषिकेश, हरिद्वार सहित आसपास में ही साढ़े नौ हजार तीर्थयात्री फंसे हुए हैं। सभी के होटल, धर्मशाला, लॉज में शरण ली हुई है, जिस कारण ऋषिकेश और हरिद्वार पूरी तरह पैक हैं।

बता दें कि चारधाम यात्रा पर बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के पहुंचने की वजह से यात्रा का स्लॉट फुल हो चुका है. इसको लेकर अब रजिस्ट्रेशन भी बंद कर दिए गए हैं. उत्तराखंड में चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या ने पिछले सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं.

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it