Begin typing your search...

'कोरोना खत्म होने के बाद नागरिकता कानून लागू करेंगे': बंगाल में अमित शाह का बड़ा ऐलान!

उल्लेखनीय है कि संशोधित नागरिकता कानून को लेकर दिल्ली के शाहीनबाग समेत देश के कई हिस्सों में बड़े विरोध प्रदर्शन हुए थे।

कोरोना खत्म होने के बाद नागरिकता कानून लागू करेंगे: बंगाल में अमित शाह का बड़ा ऐलान!
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी में रैली को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए कहा कि टीएमसी सीएए के बारे में अफवाहें फैला रही है कि इसे जमीन पर लागू नहीं किया जाएगा, लेकिन मैं यह कहना चाहूंगा कि हम सीएए को जमीन पर लागू करेंगे, जैसे ही कोविड की लहर समाप्त होगी। ममता दीदी घुसपैठ चाहती हैं। सीएए था, है और वास्तविकता होगी। उल्लेखनीय है कि संशोधित नागरिकता कानून को लेकर दिल्ली के शाहीनबाग समेत देश के कई हिस्सों में बड़े विरोध प्रदर्शन हुए थे। लंबे समय से कहा जा रहा था कि सरकार ने इसे ठंडे बस्ते में डाल दिया है।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि चुनाव के बाद यहां जो हिंसा हुई उसके बाद मानवाधिकार आयोग ने कहा कि बंगाल में कानून का राज नहीं है बल्कि यहां जो सत्ता में है उनकी इच्छा का राज है। यहां 101 लोगों की हत्या कर दी, 1829 लोग घायल हुए और 161 से ज्यादा मुकदमों में टीएमसी के गुंडे अपराधी पाए गए।

उन्‍होंने ममता पर वार करते हुए कहा कि ममता दीदी आपको तीन बार चुनने के बाद भी आप नहीं सुधर रही हैं, जब तक आप बंगाल की जनता पर अत्याचार, भ्रष्टाचार, कटमनी और सिंडिकेट का राज खत्म नहीं करेंगी तब तक भाजपा अपनी लड़ाई चालू रखेगी। ममता दीदी ने बंगाल को आर्थिक रूप से कंगाल कर दिया है। 1947 में बंगाल का देश की जीडीपी में 30% हिस्सा था जो 2022 में घटकर 3.3% कर दिया गया। ममता दीदी क्या आप बंगाल की जनता को जवाब देंगी?

शाह ने कहा, मैं आज उत्तरी बंगाल आया है, मैं यह कहना चाहता हूं कि जितनी जल्दी कोविड महामारी खत्म होगी, हम संशोधित नागरिकता कानून को लागू करेंगे। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस पर प्रतिक्रिया दी है. मुख्यमंत्री ने कहा, "यही उनकी योजना है, वो संसद में बिल क्यों नहीं ला रहे हैं, वो 2024 में वापस सत्ता में नहीं लौट रहे हैं। यह मैं आपको बता देना चाहती हूं। मैं नहीं चाहती कि किसी के नागरिकता के अधिकारों को कोई नुकसान पहुंचे। हमारी एकता ही हमारी ताकत है। वो एक साल बाद यहां आए हैं। हर बार आते हैं और ऐसी फालतू की बात करते हैं।"

Arun Mishra

About author
Assistant Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it