Top
Begin typing your search...

ममता बनर्जी की पार्टी में कलह,गद्दारों की ..........

टीएमसी को जंगलमहल और नॉर्थ बंगाल में 'गरीब लोगों के वोट' नहीं मिले। इस इलाके में आदिवासी ज्यादा हैं।

ममता बनर्जी की पार्टी में कलह,गद्दारों की ..........
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कोलकाता । पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव में 42 सीटों में मात्र 22 सीट जीतने वाली ममता बनर्जी के गढ़ में भाजपा अपनी पैढ़ बनाने मे जिस तरह कामयाब रही उससे ममता के अंदर रोस व्याप्त है। पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव में खराब प्रदर्शन और बीजेपी के 129 विधानसभा क्षेत्रों में लीड करने के बाद अब राज्यं की मुख्यनमंत्री और टीएमसी नेता ममता बनर्जी ने अपनी पार्टी के अंदर के गद्दारों की तलाश शुरू कर दी है।

टीएमसी के एक सूत्र ने बताया कि भगवा पार्टी राज्य की अन्य 60 सीटों पर मात्र चार हजार वोटों से शिकस्त मिला है। जो टीएमसी पार्टी के लिए और ज्या0दा चिंता की बात है। इसके अलावा कम से कम 192 ऐसे विधानसभा क्षेत्रों की पहचान की गई है जो 'अशांत जोन' हैं। ये क्षेत्र ज्यातदातर राज्यस के नॉर्थ और पश्चिमी इलाके में हैं।

ममता ने अपने वरिष्ठि नेताओं को ब्लॉ क लेवल पर ऐसे नेताओं की पहचान करने के लिए कहा है जिन्हों ने सीपीएम से बीजेपी और कुछ मामलों में टीएमसी से बीजेपी को वोट ट्रांसफर कराने में मदद की। टीएमसी के आंतरिक सर्वे में निकलकर सामने आया है कि टीएमसी को जंगलमहल और नॉर्थ बंगाल में 'गरीब लोगों के वोट' नहीं मिले। इस इलाके में आदिवासी ज्याॉदा हैं।

आपको बतादे कि भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल का एकसदनीय विधान भवन है। यह कोलकाता के बीबीडी बाग में स्थित है। विधान सभा के सदस्य सीधे जनता द्वारा चुने जाते हैं। विधानसभा में 295 सदस्य है जिनमे 294 सीधे जनता के द्वारा तथा एक सदस्य ऐंग्लो इंडियन समुदाय का नामांकित किया जाता है। इसका कार्यकाल 5 वर्ष का है।

Sujeet Kumar Gupta
Next Story
Share it