Top
Begin typing your search...

शिशु को डायरप पहनाने से पहले इन बातों का रखें ख्याल

शिशु को डायरप पहनाने से पहले इन बातों का रखें ख्याल
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

पेरेंट्स बच्चों के लिए डायपर का इस्तेमाल लंबे समय से करते चले आ रहे हैं। इस बात से कोई इंकार नहीं है कि ये बेहद सुविधाजनक होते हैं और आपको इसकी वजह से काफी आसानी हो जाती है। डायपर उपयोग करने के लिए सुविधाजनक तो होते ही हैं साथ ही इन्हें धोने का झंझट भी नहीं होता है, ये आसानी से उपलब्ध होते हैं और इसमें लीकेज की समस्या भी नहीं होती है। हालांकि, बच्चों के लिए डायपर का उपयोग करने के कुछ नुकसान हैं जिसके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए।

-कई डायपर को बनाते समय उसमें हार्श केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है, जो बच्चे की कोमल त्वचा को नुकसान पहुंचाकर उसे एलर्जी कर सकता है। डायपर ऐसा चुनें जो सोफ्ट और स्किन फ्रेंडली मटेरियल से बना हुआ हो।

- बच्चे को हर समय डायपर पहनाए रखने से आपको उसे टॉयलेट ट्रेनिंग देने से परेशानी हो सकती है,क्योंकि बच्चों को डायपर में पेशाब और पॉटी करने की आदत पड़ जाती है ।

- लंबे समय तक बच्चों को डायपर पहनाने से उनकी त्वचा पर रैशेज और छाले हो सकते हैं। इसकी वजह से बच्‍चा दर्द और असहजता के कारण रोने लगता है।

-डायपर महंगे होते हैं- बच्चे का डायपर दिन में लगभग आठ से दस बार बदलना चाहिए। ऐसे में इसका खर्चा आपके लिए काफी ज्यादा हो सकता है।

-डायपर के अन्य विकल्प- कपड़े का डायपर- कपड़े के डायपर का उपयोग बच्चे की त्वचा और स्वास्थ्य के लिए अच्छा है।


सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it