Top
Begin typing your search...

जानें क्या हैं वो ट्रिक्स: जिसे अपनाकर हम महफ़िल की रौनक बन सकते हैं- पारुल जैन

जानें क्या हैं वो ट्रिक्स: जिसे अपनाकर हम महफ़िल की रौनक बन सकते हैं- पारुल जैन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अक्सर हमें लोगों से ये शिकायत रहती है कि लोग हमें गम्भीरता से नहीं लेते। कई बार हम महफ़िल की रौनक बनना चाहते तो हैं पर चाहकर भी ऐसा नहीं कर पाते। रौनक बनना तो दूर, कई बार महफ़िल में होने पर भी कोई हमें नोटिस नहीं करता और हम भीड़ का हिस्सा बन कर रह जाते हैं। तब कई बार हम इसके लिए दूसरों को या अपनी किस्मत को भी दोष देने लगते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है। अगर एक दो जगह ऐसा होता है तो मान सकते है कि वो व्यक्ति जान बूझ कर हमें इग्नोर कर रहा है लेकिन अगर कई जगह ऐसा हो तो हम समझ सकते हैं कि हमारे व्यवहार में कहीं कमी है।


आइये जाने क्या हैं वो ट्रिक्स:

मुस्कुराहट: सुदर्शन और सुंदर व्यक्ति भी अगर उदास और मुंह फुलाये रहता है तो वह किसी को अच्छा नहीं लगता। इसके बदले यदि सामान्य रंग रूप वाला व्यक्ति अगर मुस्कुरा कर मिले तो सबको अच्छा लगता है। ऊपरी सुंदरता सिर्फ दूसरे व्यक्ति को पास खींच सकती है। लेकिन आंतरिक सुंदरता उसे आपसे प्रभावित कर आप के पास टिकाये रखती है। इसलिए जब भी महफ़िल में हो तो खुश रहने और मुस्कुराने का बहाना ढूंढें।

हंसना: मुस्कुराने की अगली स्टेज है हँसना। किसी अच्छे चुटकुले पर खुल कर हंसे। कोशिश करें कुछ नए और सभ्य चुटकुले याद कर लें और ज़रूरत पड़ने पर उन्हें बातचीत में इस्तेमाल करें। आप थोड़ा अभ्यास करके अपनी रूटीन लाइफ से भी हंसने हंसाने वाले किस्से ढूंढ सकती हैं।ध्यान रखें कि बात पर हंसे ,व्यक्ति पर नहीं। भूल कर भी किसी का मज़ाक न उड़ाएं। और न ही ऐसी किसी बात में शामिल हो।

स्वस्थ रहें: स्वस्थ रहने से यहां ये कतई मतलब नहीं है कि आप परफेक्ट फिगर मेंटेन करें। बल्कि आप की फिगर जैसी हैं उसी में अपने आप को स्वस्थ रखें। इसके लिए सख्त डाइट प्लान न अपना कर हल्का और सुपाच्य भोजन करें। साथ ही ध्यान रखें कि सारा समय हर किसी से अपनी किसी बीमारी का रोना न रोएं। अगर आप अपने आप को स्वस्थ महसूस करेंगी तो वो आपके व्यक्तित्व में झलकेगा। और लोग आपके व्यक्तितव से प्रभावित होकर आपकी तरफ खिंचे चले आएंगे।

सुनना: ये एक ऐसी स्किल है जो कम ही लोगो में जन्मजात पाई जाती है। इसे ज्यादातर सीखना पड़ता है। इसे सीखना बहुत ज़रूरी है लेकिन दुर्भाग्य से लोग इसकी अहमियत नहीं समझते। कोशिश करें कि सुनने की आदत डालें। सामने वाले व्यक्ति को ज्यादा से ज्यादा बोलने का मौका दें। इससे सामने वाले व्यक्ति की आपसे आत्मीयता बढ़ेगी और साथ ही वो आप पर अपना भरोसा कायम कर पायेगा।

कौशल विकास: हर व्यक्ति में कोई न कोई जन्मजात कला ज़रूर होती है। जैसे कोई अच्छी पेन्टिंग करता है तो कोई अच्छा गाता है, कोई पाक कला में निपुण है तो कोई नृत्य अच्छा करता है। कोशिश करें कि अपनी जन्मजात कला को विकसित करें। आप चाहें तो कोई नई कला भी सीख सकती हैं जैसे ढोलक बजाना या अन्य कोई कला। फिर देखिएगा, लोग कैसे आपके पास खिंचे चले आते हैं।

जीवन से भरपूर: जीवन को खुशी खुशी जिये। छोटी छोटी चीजों में खुशियां ढूंढे और दूसरों को भी इस ओर प्रेरित करें। जीवन को सकारात्मक तरीके से देखने का प्रयास करें और नकारात्मकता को अपनी बातों और व्यवहार में जगह न बनाने दें।

साथ दें: सोशल मीडिया की आभासी दुनिया से बाहर निकलें। सोशल मीडिया पर किसी के बारे में अच्छी खबर पढ़कर सिर्फ कमेंट में बधाई न लिखें बल्कि फोन करके मुबारकबाद दें। ऐसे ही किसी के साथ हुई कोई बुरी खबर आपको पता लगे तो सिर्फ कमेंट लिखने की बजाय इन्हें फोन पर या व्यक्तिगत मिलकर उन्हें दिलासा दें और साथ ही ये भरोसा दिलाये कि आप उनके साथ हैं।

अगर ऊपर लिखी इन ट्रिक्स को आजमाएंगी तो आपको चुंबकीय व्यक्तित्व की स्वामिनी बनने और महफ़िल की रौनक बनने से कोई नहीं रोक सकता।

सुजीत गुप्ता
Next Story
Share it