Top
Begin typing your search...

पृथक पश्चिम प्रदेश का निर्माण समय की सबसे बड़ी आवश्यकता - भगत सिंह वर्मा

पृथक पश्चिम प्रदेश का निर्माण समय की सबसे बड़ी आवश्यकता - भगत सिंह वर्मा
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर: आज यहां महफूज गार्डन पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा कार्यालय पर एक बैठक को संबोधित करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश का विभाजन समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है। उत्तर प्रदेश के विभाजन से जहां प्रदेश के 24 करोड लोगों को सीधा सीधा लाभ होगा वही यहां पर छोटा राज्य होने पर कानून व्यवस्था बेहतर होगी।

राष्ट्रीय अध्यक्ष भगत सिंह वर्मा ने महामहिम राष्ट्रपति जी व प्रधानमंत्री जी को एक पत्र भेजकर उत्तर प्रदेश को चार भागों में बांट कर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 26 जिलों को मिलाकर पृथक पश्चिम प्रदेश के निर्माण की मांग की। उत्तर प्रदेश में लगातार बढ़ती हुई समस्याओं का एकमात्र हल उत्तर प्रदेश का विभाजन ही है। छोटे-छोटे राज्यों से जहां पर वहां के लोगों को सीधा सीधा लाभ होगा वहीं पर छोटे राज्यों से देश की उन्नति भी संभव है। भगत सिंह वर्मा ने कहा कि देश में आयकर देने की दृष्टि से उत्तर प्रदेश बड़ा राज्य होने के कारण सबसे पीछे है जब इसके चार राज्य होंगे तो देश को सबसे अधिक आयकर देने वाले राज्य में पृथक पश्चिम प्रदेश का नाम होगा।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के 26 जिलों को मिलाकर 8 करोड जनसंख्या का पृथक पश्चिम प्रदेश देश ही नहीं दुनिया का सबसे उन्नति शील और विकासशील राज्य होगा पश्चिम प्रदेश में शिक्षित युवाओं को सबसे ज्यादा रोजगार होंगे यहां बड़े-बड़े उद्योग धंधे लगेंगे। हाई कोर्ट मेरठ में होगा और यहां के लोगों को मुख्यमंत्री से मिलना हरियाणा और उत्तराखंड की तरह आसान होगा। बैठक को संबोधित करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के वरिष्ठ राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वीरेंद्र चौधरी ने कहा कि पृथक पश्चिम प्रदेश मैं 8 करोड जनसंख्या होगी 27 लोकसभा क्षेत्र होंगे।135 विधानसभा क्षेत्र होंगे 26 जिले होंगे 6 मंडल होंगे और फिर भी पृथक पश्चिम प्रदेश पंजाब हरियाणा उत्तराखंड चंडीगढ़ राज्य के बराबर होगा।

वीरेंद्र चौधरी ने कहा कि पृथक पश्चिम प्रदेश में शिक्षा व चिकित्सा की सुविधाएं अंतरराष्ट्रीय स्तर की होंगी और यहां पर सभी शिक्षित बेरोजगारों को नौकरी मिलेगी। बैठक का संचालन करते हुए पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के प्रदेश महामंत्री आसिम मलिक ने कहा कि कई दशक से आंदोलन कर रहे पश्चिमी उत्तर प्रदेश के वकीलों व जनता के लाभ के लिए पश्चिम में आज तक हाई कोर्ट की बेंच तक भी स्थापित नहीं की गई है जो पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जनता के लिए सरासर अन्याय है। आसिम मलिक ने कहा कि पृथक पश्चिम प्रदेश निर्माण से यहां हाईकोर्ट के साथ-साथ विधानसभा और सभी विभागों के मुख्यालय मेरठ में स्थापित होंगे।

आसिम मलिक ने युवा शक्ति व छात्रों को पृथक पश्चिम प्रदेश आंदोलन में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने का आह्वान किया। बैठक की अध्यक्षता पश्चिम प्रदेश मुक्ति मोर्चा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राजेंद्र चौधरी ने की। बैठक में प्रदेश सचिव विनोद सैनी मंडल उपाध्यक्ष सरदार गुलविंदर सिंह बंटी मंडल महासचिव वीरेंद्र सिंह बिल्लू जिला अध्यक्ष पंडित नीरज कपिल रविंदर गिल जोगेंद्र सिंह जिला उपाध्यक्ष वसीम जहीर पुर हाजी सुलेमान मोहम्मद याकूब मोहम्मद फारुख डॉक्टर यशपाल त्यागी महबूब हसन बुद्धू हसन रविंद्र प्रधान हरपाल सिंह राजकरण चौधरी अरविंद चौधरी नीरज सैनी प्रधान नैन सिंह सैनी सुधीर चौधरी मांगेराम सैनी आदि ने भाग लिया।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it