Top
Begin typing your search...
Home संपादकीय

संपादकीय

अब शराब की आड़ लेकर सक्रिय होंगी उमा भारती!

अब 'शराब' की आड़ लेकर सक्रिय होंगी उमा भारती!

अरुण दीक्षितभोपाल। उमा भारती एक बार फिर चर्चा में हैं।इस बार उन्होंने मध्यप्रदेश में शराब बंदी का मुद्दा फिर से उठाया है।अब वे कह रही हैं कि वे लट्ठ...

जन्मदिन विशेष: सभी भारतीय भाषाओं में पढ़े जानेवाले कथाशिल्पी शरत चंद्र चट्टोपाध्याय

जन्मदिन विशेष: सभी भारतीय भाषाओं में पढ़े जानेवाले कथाशिल्पी शरत चंद्र ...

कुमार कृष्णनशरत् चंद्र एक ऐसे अप्रतिम कथाकार हुए जिन्होंने अपने विपुल लेखन के माध्यम से मनुष्य को उसकी मर्यादा सौंपी और समाज की उन तथाकथित...

जन्म सिद्ध अधिकार के मुगालते से बाहर आये पुरुष समाज

जन्म सिद्ध अधिकार के मुगालते से बाहर आये पुरुष समाज

हाल ही में केरल उच्च न्यायालय ने एक विशेष मामले में फ़ैसला सुनाते हुए पति पत्नी के बीच के अनैच्छिक दैहिक सम्बंधों को गैरवाजिब मानते हुए इसे स्त्री...

शारिक रब्बानी की शायरी में प्रेम सौंदर्य व देश-प्रेम : प्रत्यक्ष मिश्रा

शारिक रब्बानी की शायरी में प्रेम सौंदर्य व देश-प्रेम : प्रत्यक्ष

शारिक रब्बानी की शायरी में भी प्रेम सौर्दय व देश-प्रेम संबधित रचनाओं की प्रमुखता है, शारिक रब्बानी जी की एक विशेषता यह भी है कि वह उर्दू के साथ हिदी...

शारिक रब्बानी की शायरी में कृष्ण भक्ति : प्रत्यक्ष मिश्रा

शारिक रब्बानी की शायरी में कृष्ण भक्ति : प्रत्यक्ष मिश्रा

वर्तमान समय में भारत और नेपाल दोनों ही देशों में लोकप्रिय वरिष्ठ उर्दू शायर व साहित्यकार शारिक रब्बानी श्री कृष्ण से अटूट प्रेम रखते हैं। श्रीकृष्ण और ...

भूदान यज्ञ के प्रणेता, मुर्तीमान अहिंसा के प्रतीक आचार्य संत बाबा विनोबा

भूदान यज्ञ के प्रणेता, मुर्तीमान अहिंसा के प्रतीक आचार्य संत बाबा...

कौन है ये विनोबा?आज जब विश्व मे अशान्ति ,हिंसा और अराजकता पनप रही है और जिस वेग से हमारे जीवन मुल्यो मे गिरावट आ रही है तब इस देश की नई पीढ़ी को...

राजा महेंद्र प्रताप ने अफगानिस्तान में बनायी थी पहली निर्वासित सरकार

राजा महेंद्र प्रताप ने अफगानिस्तान में बनायी थी पहली निर्वासित सरकार

'प्रताप ने शैक्षिक उद्देश्यों के लिए अपनी संपत्ति छोड़ दी, और उन्होंने बृंदाबन में एक तकनीकी कॉलेज की स्थापना की

जन्म दिन विशेष: डॉक्टरी छोड़ स्वामी शिवानंद ने योग को बनाया जनोपयोगी विज्ञान

जन्म दिन विशेष: डॉक्टरी छोड़ स्वामी शिवानंद ने योग को बनाया जनोपयोगी...

स्वामी शिवानंद कहा करते थे कि योग का प्रयोजन इस जीवन के चार तारों -शारीरिक, मानसिक, भावनात्मक और आध्यात्मिक को ठीक से ट्यून कर देना

Share it